Ghaziabad News: शराब के शौकीनों ने उत्तर प्रदेश के राजस्व में योगदान देने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी। मौजूदा वित्तीय वर्ष में शराब की बिक्री और राजस्व प्राप्ति के मामले में गाजियाबाद जिला इस बार भी प्रदेशभर में दूसरे नंबर पर रहा।

Ghaziabad में शराब की बिक्री के आकड़े चौकाने वाले, राजस्व में 2 करोड़ की बढ़ोतरी!

Ghaziabad News: शराब के शौकीनों ने उत्तर प्रदेश के राजस्व में योगदान देने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी। मौजूदा वित्तीय वर्ष में शराब की बिक्री और राजस्व प्राप्ति के मामले में गाजियाबाद जिला इस बार भी प्रदेशभर में दूसरे नंबर पर रहा। विदेशी के मुकाबले इस साल देशी के शौखिनो ने बाजी मारी है । विदेशी शराब की बिक्री दूसरे और बीयर की बिक्री गत वर्ष के मुकाबले इस वर्ष पिछड़ गए।

शराब के ठेकों पर जहाँ ज्यादा शराब की बिक्री हुई है वो जगह इंदिरापुरम, कौशांबी, विजयनगर, खोड़ा, लोनी, वैशाली, राजनगर और कविनगर है। वहीं बात होली के तयोहार की करने तो यहाँ पर होली पर्व पर यानी की सिर्फ एक दिन में नौ करोड़ की देशी-विदेशी शराब के साथ बीयर की बिक्री दर्ज की गई है। जी हाँ आबकारी विभाग से जो जानकारी ली गई है उसके मुताबिक इस बार बीयर के शौकीनों की संख्या घटी है। वहीं लोगों इस बार देशी शराब पसंद किया देशी शराब की बिक्री में वृद्धि दर्ज की गई।

देसी शराब की बिक्री की बात करें तो देसी शराब को लेकर साल 2022 से 23 में 11,79,215 लीटर, 2023 से 24 में 18,40,292 लीटर बिक्री दर्ज की गई है।
वहीं विदेशी शराब की बिक्री की बात करें तो 2022 से 23 साल में 17,77,825 लीटर, साल 2023-24 में 2732,316 लीटर बिक्री दर्ज की गई है।

बीयर की बिक्री में भी कमी आई है जिसके मुताबिक 2022-23 साल में 3,52,558 लीटर और साल 2023 से 24 में 3,17,742 लीटर बिक्री हुई है।

कुल राजस्व में 2.11 करोड़ रुपये की वृद्धि:

2022-23: 12,71,32 लाख रुपये
2023-24: 14,82,31 लाख रुपये

होली पर 9 करोड़ की बिकी शराब

अभी हाल ही में होली के पर्व पर शराब की बिक्री का ब्यौरा देखें तो होली के एक दिन बाद, 26 मार्च 2024 को, गाजियाबाद में 9 करोड़ रुपये की शराब बिकी। यह संख्या हर दिन शराब की बिक्री की तुलना में डेढ़ गुना अधिक है।

गाजियाबाद प्रदेश में दूसरे स्थान पर:

उत्तर प्रदेश के जिलों में सर्वाधिक राजस्व प्राप्ति के मामले में गाजियाबाद दूसरे स्थान पर रहा। गाजियाबाद में जो शराब की बिक्री में वृद्धि देखी गई है इसके कारण राजस्व में भी 2 करोड़ रुपये की वृद्धि हुई है। होली पर शराब की बिक्री में भी डेढ़ गुना वृद्धि देखी गई। शासन स्तर से आबकारी राजस्व का लक्ष्य बढ़ाने की तैयारी की जा रही है। इनमे सबसे ज्यादा बिक्री देशी शराब की देखी गई, अंग्रेजी शराब दूसरे नंबर पर और तीसरे नंबर पर बिक्री के मामले बियर रही।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *