FAME Scheme का गलत फायदा उठाने वाली इन कम्पनीयों से की जाएगी वसूली, जाने क्या है पूरा मामला

FAME Scheme: देश में इलेक्ट्रिक  गाड़ियों को बढ़ावा मिल सके इसके लिए सरकार ईवी मैंन्युफैक्चरर कंपनियों को FAME यानि की फ़ास्ट एडॉप्शन एंड मैन्युफैक्चरिंग ऑफ़ इलेक्ट्रिकल एंड हाइब्रिड विहिकल्स स्कीम के ज़रिये इनसेटिव देती है। लेकिन कुछ कमपनीयों ने इसकी तरफ से तय की गई नियमों का उल्लंघन किया है। जिसके चलते सरकार ने इन कंपनियों के लिए सख्त कदम उठाते हुए इनपर कार्यवाही करने की बात कही है। साथ ही सरकार इन कंपनियों से अपनी स्कीम वापस ले लेगी वही इनका रजिस्ट्रेशन भी सरकार द्वारा रद्द किया जाएगा।

इन कंपनियों के खिलाफ होंगी कार्यवाही

लगातार ऑटोमोबाइल कमापनियों मी तरफ से उलंघन किया जा रहा है। जिसकी शिकायत कम्पनी को मिल रही है। अपनी इलेट्रिक गाड़ियों में कंपनियां आयात किए हुए पार्ट का प्रयोग कर रही है ऐसा करना फेम स्कीम के नियमों का उल्लंघन करना है। वही कंपनियां इन पार्ट्स को आसानी से बना सकती हैं। जांच में मंत्रालय ने दो कंपनिययों की पहचान की है जिसमें से एक हीरो इलेक्ट्रिक और एक ओकिनावा पाई गई है। हीरो इलेक्ट्रिक और ओकिनावा अपने इलेक्ट्रिक गाड़ियों में आयात किया पार्ट्स का प्रयोग कर रहे हैं और फेम स्कीम के तहत इंसेंटिव ले रही थी जो कि फेम का सीधा उल्लंघन करना हुआ।

गलत कंपनियों का सरकार करेगी रजिस्ट्रेशन रद्द

जानकारी के अनुसार फेम स्कीम के तहत सरकार जो भी कम्पनीयां गलत स्कीम प्राप्त की है उनका रजिस्ट्रेशन रद्द कर देगी। वही उनसे दिए गए इंसेंटिव भी सरकार वसूल लेगी। वर्तमान में चल रहे स्कीम के अंतर्गत जो भी कंपनी इल्व्कीट्रिक गाड़िया बना रही है। उन्हें पांच सालों में 10 हज़ार करोड़ रूपये देने का प्रवधान है।

वही इसके आखिरी वर्ष कंपनियों को इंसेंटिव के रूप में 5 हज़ार करोड़ का वितरण किया जा सकता है। वही ऐसा ना होने पर मंत्रालय सरकार स्कीम को एकस्टेंड करने के लिए गुजारिश करता है।

Leave a Comment