Cyber Frauds का एक चौंकाने वाला अपराधिक मामला सामने आया है, गाजियाबाद की एक महिला को चालाकी से धोखाधड़ी का शिकार बनाया गया।

Cyber Frauds ने गाजियाबाद में महिला को बनाया डिजिटल ठगी का शिकार, ट्रांसफर कराए 12 लाख

Cyber Frauds का एक चौंकाने वाला अपराधिक मामला सामने आया है, गाजियाबाद की एक महिला को चालाकी से धोखाधड़ी का शिकार बनाया गया। इंदिरापुरम में निवास करने वाली जयिता नामक महिला को दिखावे के नाम पर एक कोरियर डिलीवरी का झांसा देते हुए, ठग लिया।

क्या है पूरा मामला ?

14 मार्च को, जयिता को एक कोरियर कंपनी के नाम से फोन आया। फोन करने वाले ने दावा किया कि उनके पैकेट में मुंबई से ताइवान भेजे जा रहे ड्रग्स हैं, जिसके लिए उन्हें कस्टम विभाग की जरूरत है। उसके बाद, फिर कुछ देर बाद, जयिता को मुंबई क्राइम ब्रांच के अधिकारी बनकर वीडियो कॉल के जरिए धोखे में फंसाया गया।

महिला को रखा 2 घंटे डिजिटल अरेस्ट

इस महिला को 2 घंटे के लिए डिजिटल या अरेस्ट किया गया। यानी कि उन साइबर फ्रॉड ने 2 घंटे वीडियो कॉल के जरिए, जैत की सारी जानकारी निकाल ली। दो घंटे तक, जयिता को उसके खाते की वेरिफाई करने के नाम पर डराया गया और उससे 90 प्रतिशत की धनराशि का ट्रांसफर करवा लिया गया। इस साइबर ठगी की शिकायत के बाद, पुलिस ने साइबर क्राइम थाने में केस दर्ज किया है, लेकिन फिर भी आंखों खोलने की जरूरत है।

हमेशा रहे सतर्क

इस तरह के धोखाधड़ी के खिलाफ सावधानी बरतना जरूरी है। ऑनलाइन नंबर से आई अनजान कॉल को ध्यान से नहीं लेना चाहिए। कोरियर पैकेट में नशीले वस्त्र या वस्तुएं प्राप्त होने की सूचना आने पर तत्काल कॉल को काट देना चाहिए। कभी भी किसी अनजान व्यक्ति से खाते की जानकारी साझा न करें, और पैसो को ट्रांसफर करने से पहले यह जांच लेके सामने वाला विश्वास करने लायक है या नहीं।

कोरियर पैकेट की डिलीवरी के समय, अगर आपको कोई आपत्ति महसूस हो, तो तत्काल कॉल को काट देना चाहिए और संबंधित कंपनी की वेबसाइट पर शिपमेंट की जांच करनी चाहिए। इस तरह के धोखाधड़ी के मामले पहले भी आए हैं। इसलिए, हमें सतर्क रहना और सावधानी बरतना जरूरी है।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *