एम्स

दिल्ली एम्स हॉस्पिटल ने लागू किए कुछ नए नियम,सुविधाओं को बेहतर बनाने के लिए एम्स निदेशक ने 24 घंटे निगरानी के लिए वरिष्ठ डॉक्टर को नियुक्त करने का फैसला लिया है।

इस संबंध में एम्स निदेशक ने आदेश जारी किया है कि एम्स इमरजेंसी में रोगी देखभाल उपकरण जिसमें मॉनिटर, वेंटिलेटर, इन्फ्यूजन पंप और कुछ आईसीयू केंद्रीय चार्टिंग से जुड़े हुए नहीं हैं। इनके रियल टाइम निगरानी के लिए व्यवस्था की जाएगी।

आपको बता दे, आदेश के तहत एक दिसंबर से सभी आईसीयू व आपातकालीन सेवाओं पर शारीरिक रूप से एक संकाय 24 घंटे नजर रखेगा। एक जनवरी से सभी आईसीयूएस में एकल प्रवेश और निकास होगा जो कि चेहरे की पहचान-आधारित प्रणालियों द्वारा नियंत्रित किया जाएगा।

और तो और एक अप्रैल 2023 से ई-कैजुअल्टी और ईएलसीयू चार्टिंग सुविधा एम्स के आपातकालीन विभाग के सभी रेड और येलो एरिया बेड व आईसीयू पर लागू किया।

इसके अलावा अन्य तकनीक से मरीजों को दी जाने वाली सेवाओं में सुधार किया जाएगा। इंजीनियरिंग सेवा विभाग द्वारा 31 दिसंबर 2022 तक एक टेली-कॉल सेंटर सुविधा शुरू की जाएगी ताकि सभी आईसीयू रोगी परिचारकों के बारे में पूछताछ कर सकें।

एम्स
# सुरक्षा अधिकारी टीम में हो सकती है बदलाव

आपको बताते चले, एम्स में कार्यरत सुरक्षा गार्ड को बदला जा सकता है। एम्स निदेशक ने निदेशक दिया है कि एम्स में सुरक्षा को बेहतर बनाने व सुरक्षा सेवाओं में सुधार करने लिए व्यवस्था करने का फैसला लिया है। साथ ही आदेश दिया कि भविष्य में केवल पुनर्वास महानिदेशालय के माध्यम से आउटसोर्स सुरक्षा सेवाओं को शामिल किया जाएगा। मुख्य सुरक्षा अधिकारी को वरिष्ठ वित्तीय सलाहकार के परामर्श से 31 दिसंबर तक इस दिशा में काम करने का निर्देश दिया है।

Author

By Shujaz Chithara

Shujaz Chithara Is The Edtior Of The Express Khabar He Is Write News In This Website

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *