उत्तर प्रदेश :- रोडवेज के चालकों व परिचालकों को 10 सितंबर से बिना वर्दी और नेम प्लेट के पकड़े जाने पर प्रतिदिन 100 रुपये जुर्माना लगेगा. यूपी रोडवेज के चालक व परिचालक अब वर्दी में ही दिखाई देंगे. उनकी वर्दी पर नेम प्लेट भी लगाई जाएगी. ऐसे में यात्रियों के साथ न केवल उनके व्यवहार में सुधार होगा बल्कि अनुशासन भी कायम रहेगा.

डग्गामार एक बस हुई सीज चार का हुआ  चालान

जानकारी के मुताबिक, आरटीओ व रोडवेज की संयुक्त टीम ने मंगलवार को गोरखपुर बस स्टेशन के आसपास डग्गामार वाहनों के खिलाफ जांच अभियान चलाया. पीटीओ रविकांत त्यागी व एआरएम महेश चंद्र ने डग्गामारी कर रही 1 निजी बस को सीज व 4 का चालान काट दिया. यूपी 53 जीटी 3344 नंबर की बस से 15 हजार, आरजे 14 पीडी 4115 नंबर की बस से 11 हजार, एनएल 07बी 0725 नंबर की बस से 11 हजार, यूपी 63 एटी 3247 नंबर बस से 15 हजार व यूपी 53 एफटी 8468 नंबर बस से पांच हजार सहित 57 हजार जुर्माना वसूल किया गया.

दस सितंबर से वर्दी और नेम प्लेट अनिवार्य

बता दें कि, इस संबंध में क्षेत्रीय प्रबंधक परिवहन निगम, पीके तिवारी ने कहा कि चालकों और परिचालकों के लिए दस सितंबर से वर्दी और नेम प्लेट अनिवार्य है. इसका अनुपालन कराने के लिए सभी संबंधित अधिकारियों और कर्मचारियों को निर्देश दे दिए गए है.

वर्दी सिलवाने व नेम प्लेट बनवाने के लिए जारी दिशा-निर्देश

जानकारी के मुताबिक, गोरखपुर डिपो के नियमित और संविदा वाले सभी चालकों और परिचालकों के खाते में धन पहुंचा दिया गया है. शासन ने दो पैंट, शर्ट और सिलाई के लिए गोरखपुर परिक्षेत्र के सभी चालकों और परिचालकों के खाते में निर्धारित 1800 रुपये भेज दिए हैं. 09 सितंबर तक सभी चालकों और परिचालकों को वर्दी सिलवा लेने के आदेश है. एआरएम महेश चंद्र के अनुसार वर्दी सिलवाने व नेम प्लेट बनवाने के लिए दिशा-निर्देश भी जारी कर दिए गए हैं. चालकों और परिचालकों को वर्दी के साथ नेम प्लेट भी लगाना अनिवार्य किया गया है. नेम प्लेट पर परिवहन निगम का लोगो, पद नाम और इंप्लाई कोड भी अंकित करना होगा. शासन द्वारा इसके लिए नमूना भी भेज दिया गया है.

By Kajal

Leave a Reply

Your email address will not be published.