नई दिल्ली:- वीकेंड पर घूमने के प्लान भी बन रहे हो तो इस वीकेंड आप दिल्ली के मशहूर गार्डेन आफ फाइव सेंसिज (Garden of Five Senses) देखने जा सकते हैं. दिल्ली के सैयद-उल-अजैब गांव में करीब 20 एकड़ में फैले इस गार्डन में भीड़भाड़ से दूर सुकून से आप अपने वीकेंड के कुछ पल खुशी से जी सकते हैं.

विभिन्न भागों में बंटा है गार्डन

प्राकृतिक सौंदर्यता से भरपूर इस गार्डन का नाम ‘गार्डन ऑफ फाइव सेंसिज’ रखा गया है. माना जाता है कि इसकी सुंदरता पर्यटकों के पांचों इंद्रियों को सुख प्रदान करती है. इस पार्क की खूबसूरती किसी का भी मन मोह सकती है. इस गार्डन को विभिन्न हिस्सों में बांटा गया है. घुमावदार रास्ते के एक ओर मुगल गार्डन की तर्ज पर यह खास बाग बनाया गया है. इस बाग के किनारे पानी के नहर भी बनाए गयी हैं जिसमें धीमी गति फव्वारों चलते हैं.

विशेष कार्यक्रमों में जुटती है भीड़

बता दें की फोटों खिंचवाने के लिहाज से सभी पर्यटकों को खूब भाते हैं. समय-समय पर दिल्ली पर्यटन विभाग की ओर से पर्यटकों के लिए यहां सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किये जाते है. यहां पर आयोजित होने वाली गार्डन फेस्टिवल में दूर-दूर से लोग घुमने आते हैं. पार्क में रास्ते के दूसरी ओर फूड और शॉपिंग कोर्ट भी है. अगर आप गार्डन की हरियाली का आनंद लेते थक जाएं तो बीच में खाने के साथ-साथ खरीददारी का भी मजा उठा सकते हैं. इसके साथ ही खाने का मजा लेने के लिए छायादार बैठने की व्यवस्था भी की गई है.

पार्क में पत्थरों की कलाकृतियां

यहां की फाउंटेन ट्री वास्तुकला का एक शानदार प्रतीक है. पार्क में चट्टानों से छोटी-बड़ी कई कलाकृतियां बनाई गई हैं. बता दें की पार्क में खुशबूदार फूलों की झाड़ियां और तरह-तरह के पेड़-पौधे लगाए गए हैं. पार्क के मध्य भाग में फव्वारों की एक पूरी श्रंखला है, जो शाम के वक्त रंग बिरंगे रोशनी से जगमगा उठती है.

यहां कैसे पहुंचे

जानकारी के मुताबिक, दिल्ली के साकेत या कुतुब मीनार मेट्रो स्टेशन से रिक्शा या आटो पकड़कर आप गार्डेन आफ फाइव सेंसिज जा सकते हैं. पार्क के अंदर जाने के लिए आपको पहले टिकट की आवश्यकता होगी. व्यस्कों के लिए टिकट की राशि 35 रुपये, 12 वर्ष से कम उम्र के बच्चों और बुजुर्गों के लिए 15 रुपये टिकट निर्धारित की गयी है. दिव्यांगों के लिए एंट्री की सुविधा मुफ्त निश्चित की गई है.

By Kajal

Leave a Reply

Your email address will not be published.