लखनऊ :- उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कारपोरेशन लिमिटेड (यूपीएमआरसी) पांच सितंबर को अपनी पांचवीं वर्षगांठ मनाएगा. लेकिन मेट्रो की कनेक्टिविटी जितनी होनी चाहिए, फिलहाल उतनी नहीं है. वहीं, आबादी भी हर साल तेजी से बढ़ती ही जा रही है. जब तक मेट्रो की शहर में कनेक्टिविटी नहीं बढ़ेगी, तब तक राजधानी में उसके चलने का कोई विशेष फायदा लोगों को हासिल नहीं होगा.

मेट्रो का विस्तार अति आवश्यक

जानकारी के मुताबिक, विस्तार के नाम पर अभी मेट्रो का संचालन राजधानी में चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट से मुंशी पुलिया मेट्रो स्टेशन के बीच हो रहा है, जिसे नार्थ साउथ कारिडोर का नाम दिया गया है. दूसरा कारिडोर ईस्ट वेस्ट कारिडोर शासन स्तर पर जरूर बढ़ा है, लेकिन 74 किमी. मेट्रो का खाका आज भी फाइलों में ही दबा पड़ा है. मेट्रो में यात्रियों की संख्या का ग्राफ अगर बढ़ाना है और भविष्य के लिए शहर की लाइफ लाइन बनाना है तो मेट्रो का विस्तार अति आवश्यक है.

70 हजार से भी अधिक लोग मेट्रो में कर रहे यात्रा

बता दें की चारबाग से पुराने लखनऊ में चलने वाली मेट्रो हो या शहर के अन्य हिस्सों में मेट्रो का संचालन, उसके लिए अस्सी मीटर के प्लेटफार्म बनाए जाने निश्चित किए थे. लक्ष्य यह निश्चित किया गया था कि मेट्रो कम बजट में लोगों को परिवहन की सुविधा उपलब्ध कराएगी. अलग-अलग मेट्रो रूटों के बने प्रस्तावों का प्रजेंटेशन होने के बाद भी किसी प्रोजेक्ट को गति नहीं मिल पायी है. इस कारण ही शहर में आज ट्रैफिक एक बड़ी समस्या बन गई है. वहीं जिस रूट पर मेट्रो का संचालन किया जाता है, वहां जाम जैसी समस्या है है नहीं, क्योंकि 70 हजार से भी अधिक लोग मेट्रो में यात्रा कर रहे हैं.

शासन व कमिश्नर के सामने हो चुका प्रजेंटेशन

शहर में मेट्रो का विस्तार कैसे किया जाएगा, इसका पूरा प्रजेंटेशन शासन स्तर और मंडलायुक्त के यहां डेढ़ साल पहले ही तैयार किया जा चुका है. 74 किमी. का मेट्रो रूट का प्रस्ताव भी तैयार किया गया था. चार चरणों में छह रूट बनने थे जो की अलग-अलग इलाकों तक जाना था. सीतापुर रोड, हरदोई रोड, सुलतानपुर रोड, रायबरेली रोड को कनेक्ट करती.

लखनऊ नगर के अंदर कानपुर रोड, राम मनोहर लोहिया विवि, शहीद पथ, पीजीआइ, बाबा भीमराव अंबेडकर विवि, वृंदावन योजना, गोमती नगर विस्तार, सीतापुर रोड, जानकीपुरम, राजाजीपुरम तक प्रस्तावित किया गया है. इसके अलावा मवैया, तुलसीदास, सुभाष मार्ग, विक्टोरिया स्ट्रीट रूट, इंदिरा नगर व अलीगंज आदि क्षेत्र भी मेट्रो की परिधि में ही होने थे.

लखनऊ में प्रस्तावित मेट्रो रूट

राजाजीपुरम से आइआइएम

चारबाग से पीजीआइ

मुंशी पुलिया से जानकीपुरम

इंदिरानगर से सीजी सिटी

सीजी सिटी से एयरपोर्ट

सचिवालय से सीजी सिटी

 

 

By Kajal

Leave a Reply

Your email address will not be published.