दिल्ली सरकार ने शराब बेचने का काम अपने हाथों में ले लिया है. और यह काम अपने हाथों में लेने के बाद से दिल्ली सरकार तेजी से शराब बेचने वाले दुकानों की संख्या बढ़ाती जा रही है. दिल्ली सरकार इस समय अच्छी क्वालिटी की शराब की उपलब्धता और इसको बेचने वाले दुकानों को जुटाने में लगी हुई है और साथ ही साथ दिल्ली सरकार अच्छी क्वालिटी की शराब उपलब्ध कराने का भी जिम्मा उठा रही है. बीते 2 सितंबर तक दिल्ली में लगभग 370 शराब की दुकान खोल दी गई हैं और तो और मीडिया रिपोर्ट की मानें तो इस महीने के अंत तक लगभग 500 जगहों पर 700 से भी अधिक दुकानें खोल दी जाएंगी.

हरियाणा से अवैध शराब की तस्करी की जाएगी बंद

दिल्ली सरकार अच्छी क्वालिटी की शराब उपलब्ध कराने का कार्य काफी तेजी से कर रही हैं. लेकिन इस बीच हरियाणा से लगने वाले 2 जिलों में अवैध शराब की तस्करी के मामले को लेकर भी सरकार सख्ती दिखा रही है. दिल्ली सरकार के एक बड़े अधिकारी का कहना है कि पश्चिमी दिल्ली और दक्षिणी दिल्ली जो कि हरियाणा के बॉर्डर से जुड़ते हैं यहां पर विशेष ध्यान दिया जाएगा ताकि हरियाणा से अवैध शराब दिल्ली में ना आ सके.

किस जिले में कितने शराब के लाइसेंस

पुराने आबकारी नीति लौटने के बाद से दिल्ली सरकार ने अभी तक 422 दुकानों को लाइसेंस दिया है. जिसमें से बीते 2 सितंबर तक 370 दुकानें खोल दी गई थी. वही बात करें कि दिल्ली के किस जिले में कितने शराब की दुकान के लाइसेंस मिले हैं तो पूर्वी दिल्ली में 49, मध्य में 39, नई दिल्ली में 11, उत्तरी में 35, उत्तरी पूर्वी में 15, उत्तरी पश्चिमी में 75, शाहदरा में 21, पश्चिमी में 59, दक्षिणी में 18, दक्षिण पूर्वी में 64 और दक्षिण पश्चिमी में 36 दुकानों को शराब के लाइसेंस दिए गए हैं. अभी तक दिल्ली सरकार ने सिर्फ 422 लाइसेंसी बांटे हैं. जिनमें से 370 दुकानें खोली जा चुकी है. लेकिन मीडिया रिपोर्ट की मानें तो इस महीने के अंत तक दिल्ली सरकार लगभग 500 जगहों पर 700 शराब लाइसेंस देने वाली हैं.

Author

  • Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

By Abhishek Raj

Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

Leave a Reply

Your email address will not be published.