यूपी सरकार द्वारा विकास के लिए एक नया कदम लिया गया है,,यूपी राज्य के गोरखपुर शहर में एक नया अभिनव प्लान तैयार किया गया है।बसों को अब कचरे से चलाने की तैयारी शुरू हो चुकी है, ये सुझाव मध्य प्रदेश के इंदौर से मिला है जहा की तर्ज पर अब महानगर में कचरे से बस चलाने की कवायद शुरू हो चुकी है। कचरे और गोबर से कंप्रेस्ड नेचुरल गैस सीएनजी और लिक्विड खाद बनाने वाली महाराष्ट्र की कंपनी के अधिकारी गोरखपुर आने की संभावना है, वही आपको बता दे कि इंडो एनवायरो इंटीग्रेटेड सल्यूशन लिमिटेड के अधिकारियों को सजनवा के सुथनी में सॉलि़ड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट के लिए अधिग्रहित जमीन दिखाई जा सकती हैं।

आपकी जानकारी के लिए आपको बता दे, कि मुख्य सचिव के निर्देश पर नगर आयुक्त टीम के साथ इंदौर के दौरे पर गए हुए हैं । इंदौर में कचरे से सीएनजी व लिक्विड खाद बनाने का काम किया जाता है। इंदौर में महाराष्ट्र की कंपनी ने कचरे का निस्तारण कर सीएनजी व खाद बनाती है और नगर निगम को रुपए भी देती है। नगर आयुक्त के द्वारा प्लांट का निरीक्षण किया और गोरखपुर में भी इसी तरह के प्लांट स्थापित की जा सकती है।

इस बड़ी सिटी में प्रतिदिन लगभग 400 टन कूड़ा निकलता है:-

गोरखपुर महानगर में 400 टन रोजाना दोनो गीला और सूखा कचरा निकलता है जिसमें 70% गीला कचरा होता है फिलहाल के लिए इसे एकला बांध पर डाल दिया जाता है वही मटेरियल रिकवरी फेसेलिटी सेंटर में नगर निगम कुछ मात्रा में कचरे का निस्तारण कर जैविक खाद बनाता है।

Author

  • Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

By Abhishek Raj

Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

Leave a Reply

Your email address will not be published.