पूरे दुनिया काफी तेजी से बदलती हुई नजर आ रही है ऐसे में हमारा देश भी कई तरह के बदलाव कर रहा है और हमारे देश में अब इलेक्ट्रिक वाहनों के उपयोगिता को काफी ज्यादा बढ़ावा दिया जा रहा है. इसी कड़ी में दिल्ली सरकार स्विच दिल्ली पोर्टल पर इलेक्ट्रिक वाहनों के चार्जिंग और बैटरी स्वैपिंग को एक ही प्लेटफार्म पर लाने के लिए काफी तेजी से ओपन डेटाबेस तैयार कर रही है. इस पहल के बाद से इलेक्ट्रिक वाहन वाली कंपनियां देश की राजधानी दिल्ली में 2500 से ज्यादा इलेक्ट्रिक चार्जिंग प्वाइंट का इस्तेमाल कर सकेंगी. साथ ही साथ यह कंपनियां दिल्ली में इलेक्ट्रिक वाहनों के उपयोगकर्ताओं बैटरी स्वैपिंग स्टेशनों की जानकारी देने के लिए अपना खुद का प्लेटफार्म भी विकसित कर सकती हैं.

इलेक्ट्रिक वाहनों की बढ़ेगी उपयोगिता

दिल्ली सरकार के द्वारा कई तरह के कदम उठाए जा रहे हैं ताकि इलेक्ट्रिक वाहनों की उपयोगिता बढ़ाई जा सके. दरअसल, इलेक्ट्रिक वाहनों की उपयोगिता दिल्ली में इसलिए बढ़ाना जरूरी है क्योंकि दिल्ली में डीजल और पेट्रोल वाहनों के वजह से काफी ज्यादा पॉलियुशन होता है और इसको रोकने के लिए दिल्ली सरकार इलेक्ट्रिक वाहनों की उपयोगिता बढ़ाने के प्रति कदम उठा रही है और यही कारण है कि दिल्ली सरकार इलेक्ट्रिक वाहनों की उपयोगिता बढ़ाने के लिए यह कदम भी उठा रही हैं.

EV के उपयोगिताओं को रेंज की चिंता से मिलेगी मुक्ति

परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने कहा कि पिछले साल सरकार ने ओपन डेटाबेस की शुरुआत की थी जिसने गूगल, उबर और ओला जैसी कंपनियों ने इस्तेमाल करना शुरू किया. दिल्ली सरकार के द्वारा उठाए गए इलेक्ट्रिक व्हीकल की चार्जिंग प्वाइंट का डेटाबेस ओपन करने से देश की राजधानी दिल्ली में इलेक्ट्रिक वाहनों को उपयोग करने वाले लोगों की रेंज की चिंता खत्म हो जाएगी. इलेक्ट्रिक वाहनों के उपयोगकर्ता दिल्ली के 2500 EV चार्जिंग पॉइंट और बैटरी स्वैपिंग का पता अपने मनपसंदीदा एप्लीकेशन के माध्यम से लगा सकते हैं.

Author

  • Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

By Abhishek Raj

Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

Leave a Reply

Your email address will not be published.