देश की राजधानी दिल्ली से सटे आसपास के इलाकों को दिल्ली एनसीआर में शामिल किया गया है और देश की राजधानी के साथ-साथ दिल्ली एनसीआर में भी काफी ज्यादा प्रदूषण बढ़ता हुआ नजर आ रहा है. ऐसे में प्रदूषण को कंट्रोल में लाने के लिए देश के सबसे हाईटेक शहरों में से एक और भारत का जापान कहे जाने वाले नोएडा में ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान यानी ग्रैप लागू होने वाला है. दरअसल, नोएडा में काफी ज्यादा प्रदूषण बढ़ रहा है ऐसे में नोएडा में जल्द ही ग्रैप लागू किया जाएगा. इसके तहत नोएडा में उन सभी कामों को स्थगित कर दिया जाएगा जिनसे प्रदूषण बढ़ता है. मीडिया रिपोर्ट की माने तो 1 अक्टूबर तक इस प्लान को नोएडा में लागू किया जा सकता है और जैसे-जैसे प्रदूषण का स्तर बढ़ता जाएगा वैसे-वैसे इस प्लान में विस्तृतप्ता किया जाता रहेगा. साधारण भाषा में कहें तो जैसे-जैसे प्रदूषण का स्तर बढ़ता जाएगा वैसे-वैसे चीजों पर पाबंदियां भी बढ़ाई जाएगी.

1 अक्टूबर से लागू होगा ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान

दरअसल, दिल्ली से सटे नोएडा में लगातार प्रदूषण का स्तर बढ़ता ही जा रहा है ऐसे में नोएडा विकास प्राधिकरण का कहना है कि 1 अक्टूबर से प्रदूषण को कंट्रोल में लाने के लिए ग्रेलैंड रिस्पांस एक्शन प्लान लागू कर दिया जाएगा. इस प्लान को लागू करने के बाद से ट्विन टावर का मलबा निस्तारण एक बहुत बड़ी चुनौती होगी हालांकि इंजीनियरों का कहना है कि यह मलबा सेक्टर 80 स्थित सीएंडडी प्लांट में पहुंचाया जा रहा है. और बाकी के बचे मलबों का उपयोग बेसमेंट तथा आसपास के होल को भरने के लिए किया जाएगा. बता दें कि ग्रेनेड रिस्पांस एक्शन प्लान के तहत प्रदूषण के स्तर को ध्यान में रखकर पाबंदी लगाई जाएगी. ऐसे में विभिन्न विभिन्न स्तरों पर विभिन्न विभिन्न तरह की पाबंदियां लगाई जाएंगी.

201 से 300 के बीच

अगर एयर क्वालिटी इंडेक्स 201 से 300 के बीच होगी तब धूल और सीएंडडी वेस्ट के लिए एक अलग से गाइडलाइन बनाई जाएगी. 500 वर्गमीटर के प्लाट या उससे अधिक के प्लाट के निमार्ण कार्य पर रोक लगा दी जाएगी. नियमानुसार कचरा उठाया जाएगा. तथा खुले में कचरे फेकने पर पूरी तरह से रोक लगा दी जाएगी. अगर कही सीएंडडी वेस्ट पड़ा है तो उसको ठीक तरीके से ढका जाएगा तथा खुले में कचरा जलाने पर प्रतिबंध लगा दिया जाएगा.

301 से 401 के बीच

अगर एयर क्वालिटी इंडेक्स 301 से 401 के बीच होगी तब मैकेनिकल और वैक्यूम बेस्ड स्वीपिंग की जाएगी. सड़कों पर पानी का छिड़काव किया जाएगा. होटलों और रेस्टोरेंटों में तंदूर और कोयलों पर प्रतिबंध लगा दिया जाएगा. जेनसेट के प्रयोग पर रोक लगा दिया जाएगा. पार्किंग के फीस को बढ़ा दिया जाएगा ताकि लोग ज्यादा से ज्यादा सार्वजनिक वाहनों का उपयोग कर सकें और तो और मेट्रो, पब्लिक ट्रांसपोर्ट और सीएनजी वाहनों की उपयोगिता को बढ़ावा दिया जाएगा.

401 से 450 के बीच

अगर एयर क्वालिटी इंडेक्स 401 से 450 के बीच होगी तब एनसीआर में कंस्ट्रक्शन और डिमोलिशन पर तुरन्त प्रतिबन्ध लगा दिया जाएगा. फ्यूल संचालित फैक्ट्रीयों को तुरन्त बंद कर दिया जाएगा. इतना ही नहीं हाट मिक्सिंग प्लांट से लेकर ब्रिक क्रेक्स प्लांट तक पर भी पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया जाएगा. इसके अलावा माइनिंग एक्टिविटी पर भी पूरी तरह से रोक लगा दिया जाएगा.

Author

  • Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

By Abhishek Raj

Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

Leave a Reply

Your email address will not be published.