26 सितंबर से दिल्ली से शिमला जाने वाले यात्रियों के लिए विमान सेवा शुरू होने वाली हैं. डीजीसीए ने उड़ानों के लिए मंजूरी दे दी है. 26 सितंबर से एक बार फिर दिल्ली से शिमला के लिए और शिमला से दिल्ली के लिए फ्लाइट उड़ेंगी. बता दें, सोमवार को शिमला के जुब्बड़हट्टी एयरपोर्ट पर दिल्ली- शिमला विमान का ट्रायल किया गया था. यह ट्रायल सफल रहा. जिसके बाद डीजीसीए यानी केंद्रीय नागर विमानन महानिदेशालय ने इन उड़ानों को भरने की अनुमति दे दी है. इस विमान सेवा के शुरू होने के बाद तमाम लोगों को इसका फायदा मिलेगा. बता दें, 2020 में कोरोनावायरस की महामारी के दौरान इस विमान सेवा को बंद कर दिया गया था लेकिन दो साल बाद अब फिर से इसे शुरू किया जाने वाला है.

इतने यात्री भर सकेंगे उड़ान

बता दें, 26 सितंबर से दिल्ली शिमला के बीच विमान उड़ने की शुरुआत होगी. इस दौरान 48 सीटर एटीआर विमान के जरिए लोगों को शिमला पहुंचाया जाएगा. वहीं इस विमान की आधी सीटें ग्रेच्युटी जबकि बची हुई सीटें पूरी दरों पर मिलेंगी ग्रेच्युटी वाली सीट की टिकट की बात करें तो 5000 इसका किराया है. जबकि दूसरी सीटों के किराए की बारे में बात करें तो वह किराया करीब 2500 प्रति सीट के हिसाब से रखा गया है. पहले जो यात्री सीट बुक करेंगे उनको ग्रेच्युटी की सुविधा मिलेगी. यह सुविधा पहले 50% यात्रियों को ही मिल पाएगी. माना जा रहा है यह विमान सेवा 26 सितंबर के बाद पूरे हफ्ते देखने को मिलेगी. इससे हिमाचल प्रदेश में सैलानियों और पर्यटकों की संख्या में भी इजाफा होगा. सूत्रों का कहना है इस फ्लाइट सेवा के बाद दूसरी फ्लाइट सेवा चलाने पर भी विचार किया जा सकता है.

यह रहेगी फ्लाइट की टाइमिंग

इस फ्लाइट की टाइमिंग के बारे में बात करें तो यह फ्लाइट रात 8 बजे हिमाचल प्रदेश के जुब्बड़हट्टी एयरपोर्ट पहुंचेगी. इसके बाद आधे घंटे के अंतराल के बाद यह फ्लाइट शिमला से दिल्ली के लिए रवाना हो जाएगी. बता दें, राज्य के अतिरिक्त विभाग के पर्यटन निदेशक रविंद्र शर्मा ने इस बात की पुष्टि की है. रविंद्र शर्मा ने बताया इस फ्लाइट सेवा को शिमला के बाद कुल्लू और धर्मशाला से भी जोड़ा जाएगा. आखिर में आपको बता दें, इस विमान को फ्रांस की कंपनी एलाइंस ने निर्मित किया है.

Author

By Anshu Pandey

Anshu Pandey Is Edtior Of Expresskhabar.in , Anshu Pandey writing news Of Expresskhabar.in

Leave a Reply

Your email address will not be published.