अगर आप दिल्ली मेट्रो में सफर करते हैं और आपके साथ भी मेट्रो कार्ड भूलने की समस्या होती है या आपको टोकन लेने का झंझट लगता है तो कुछ और समय ऐसे काट लीजिए. इसके बाद डीएमआरसी यानी दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन एक ऐसी सुविधा लेकर आ रही है. जिसके तहत आपको ना तो स्मार्ट कार्ड साथ रखने का झंझट होगा और ना ही टोकन लेने की वजह से दिक्कत होगी, क्योंकि डीएमआरसी इसको पूरी तरह से डिजिटलाइज करने की कोशिश कर रही है. सिर्फ आपके साथ आपका मोबाइल होना चाहिए और आप मेट्रो स्टेशन पर एंट्री और एग्जिट आसानी से कर जाएंगे.

स्मार्ट कार्ड और टोकन का झंझट होगा खत्म

जी हां, डीएमआरसी सभी मेट्रो स्टेशनों पर नेशनल कॉमन मोबिलिटी कार्ड क्यूआर कोड से टिकट कंफर्म करने की योजना पर काम कर रही हैं. दिल्ली मेट्रो के सूत्रों का कहना है अगर यह योजना पर काम सक्सेसफुल होता है तो इसको पूरी तरह से अगले साल मार्च और फरवरी के महीने तक लागू कर दिया जाएगा. इसके तहत तमाम यात्रियों को सहूलियत मिलेगी. अधिकारियों ने यह भी बताया सभी मेट्रो स्टेशनों पर दो ऑटोमेटिक फेयर गेट होंगे. जहां से आप एंट्री और एग्जिट कर सकेंगे. इसके लिए सिर्फ आपको क्यूआर कोड स्कैन करने की जरूरत होगी. साथ ही गेट भी बढ़ा
दिए जाएंगे. इस प्लान के तहत इस तरह की टेक्नोलॉजी को मेट्रो स्टेशनों पर लागू करने पर पूरी जोरों शोरों से काम चल रहा है.

मोबाइल क्यूआर कोड के जरिए कर सकेंगे यात्रा

अधिकारियों ने यह भी बताया अभी दिल्ली के सभी मेट्रो स्टेशनों पर करीब 332 स्टेशनों पर एएफसी गेट्स हैं. इसके तहत करीब 550 स्टेशनों के गेटों पर पूरी तरह से यह क्यूआर कोड की प्रक्रिया लागू होगी. बता दें, इस टेक्नोलॉजी को इजात करने के पीछे डीएमआरसी का मेट्रो स्टेशनों पर ऐसी सुविधा लागू करना है. जहां पर ज्यादा भीड़ भाड़ होती है. इसके साथ ही यह भी जान लीजिए दिल्ली मेट्रो के अनुसार वर्तमान समय में 2 करोड से लेकर 3 करोड़ तक स्मार्ट कार्ड सरकुलेशन में है. करीब 77 फ़ीसदी लोग स्मार्ट कार्ड के जरिए ही मेट्रो में सफर करते हैं. इसके अलावा 33 फ़ीसदी ऐसे लोग हैं जो टोकन से यात्रा करते हैं. टोकन से यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए अलग-अलग स्टेशनों पर रिचार्ज करने वाली मशीनें लगाई गई हैं.

Author

By Anshu Pandey

Anshu Pandey Is Edtior Of Expresskhabar.in , Anshu Pandey writing news Of Expresskhabar.in

Leave a Reply

Your email address will not be published.