Indian Railway :- हाल ही में खबर आई है कि अब मालगाडिय़ां बिना गार्ड के चलाई जाएंगी. इसके लिए रेलवे द्वारा एक डिवाइस विकसित किया गया है. अब स्टेशन मास्टर की जगह कंप्यूटराइज्ड सिस्टम से काम दिया जाएगा. प्रयागराज मंडल में इसका सफल ट्रायल भी किया जा चुका है. एंड आफ ट्रेन टेलीमेट्री (ईओटीटी) डिवाइस का आरडीएसओ लखनऊ और बनारस लोकोमोटिव वर्क्‍स (बीएलडब्ल्यू) द्वारा संयुक्त रूप से विकास किया गया है.

नई तकनीक का सफल ट्रायल

उत्तर मध्य रेलवे के कानपुर लोकोशेड द्वारा मालगाड़ी में एंड आफ ट्रेन टेलीमेट्री (ईओटीटी) प्रणाली का सफल ट्रायल किया गया है. ईओटीटी स्वचालित प्रणाली पर ब्रेक वैन के बिना ट्रेन के संचालन की एक अत्याधुनिक तकनीक है. इससे अब मालगाडिय़ों में ब्रेक वैन की आवश्यकता ही नहीं होगी और सुरक्षित संचालन के लिए गार्ड की सभी संरक्षा गतिविधियों को पूरा करेगी. 9 अगस्त को गोरखपुर से गोंडा के बीच दो माल गाड़ी बिना गार्ड के चलाकर देखी गई.

पैसेंजर गाड़ियों में भी लगाया जाएगा यह सिस्टम

बता दे कि प्रथम चरण में भारतीय रेलवे में 1000 माल गाड़ियों में ईओटीटी सिस्टम लगाने की योजना बनाई गई है. आने वाले दिनों में भारतीय रेल की सभी माल गाड़ियों में यह सिस्टम लगा दिया जाएगा. दूसरे चरण में यात्री ट्रेनों में भी लगाने की योजना है.

एक ईओटीटी सिस्टम की कीमत करीब 10 लाख रूपये

बता दें कि एक ईओटीटी सिस्टम की कीमत करीब 10 लाख रूपये बताई गई है. यह सिस्टम ट्रेन की एक-एक गतिविधियों से लोको पायलटो और कंट्रोल को जानकारी देता रहेगा. विषम परिस्थितियां या ट्रेन के दो भाग में बट जाने पर भी यह लोको पायलटों और कंट्रोल को सूचित कर देगा, यानी पूरी तरह से गार्ड की अहम भूमिका निभाएगा. यह सिस्टम ट्रेन के अंतिम छोर पर स्थित गार्ड यान में स्थापित किया जाएगा. पूरा सिस्टम हर पल लोको पायलटों और कंट्रोल के संपर्क में रहेगा. सूचनाओं का आदान प्रदान करने के साथ यह सुरक्षा की भी निगरानी करेगा. इस तकनीक के इस्तेमाल करने से मानव श्रम पर होने वाला खर्च की बचत होगी.

By Kajal

Leave a Reply

Your email address will not be published.