नई दिल्ली :- उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को बूस्ट करने के लिए दिल्ली सरकार युद्धस्तर पर काम कर रही है. दिल्ली सरकार जिन 11 अस्पतालों का निर्माण करा रही है, वे 2023 के मध्य तक चालू होने की संभावना है. उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने गुरुवार को इन अस्पतालों की निर्माण प्रगति की समीक्षा करने के बाद कहा कि वह खुद अगले 15 दिन में इन अस्पतालों के निर्माण स्थल पर जाएंगे और कार्यों का निरीक्षण करेंगे.

गंभीर श्रेणी के मरीजों को सबसे अधिक फायदा

बता दें, दिल्ली सरकार सिरसपुर, ज्वालापुरी, मादीपुर, हस्तसाल (विकासपुरी) में 3237 बेड की क्षमता रखने वाले चार अस्पताल बनवा रही है. ये अस्पताल मार्च से जून 2023 तक तैयार भी हो जाएंगे. इसके अलावा 6838 आईसीयू बेड की क्षमता वाले सात नए सेमी परमानेंट (अर्द्ध स्थायी निर्माण) अस्पताल का निर्माण कार्य भी प्रगति पर है. मसलन 11 अस्पतालों के बनने के बाद 10 हजार नए बेड बढ़ जाएंगे. गंभीर श्रेणी के मरीजों को इसका सबसे अधिक फायदा मिलेगा.

6838 आईसीयू बेड की क्षमता वाले सात अस्पताल

बता दें की कोरोना जैसी महामारियों के साथ-साथ क्रिटिकल केसों से लड़ने के लिए 6838 आईसीयू बेड की क्षमता वाले सात सेमी-परमानेंट अस्पताल भी तैयार किए जा रहे है. इस प्रोजेक्ट के अनुसार शालीमार बाग में 1430 बेड की क्षमता वाला चार मंजिला अस्पताल, किराड़ी में 458 बेड की क्षमता वाला पांच मंजिला अस्पताल, सुल्तानपुरी में 527 बेड्स की क्षमता वाला चार मंजिला अस्पताल, जीटीबी काम्प्लेक्स में 1912 बेड की क्षमता वाला पांच मंजिला अस्पताल, गीता कॉलोनी में चाचा नेहरू बाल चिकित्सालय में 610 बेड की क्षमता वाला पांच मंजिला अस्पताल, सरिता विहार में 336 बेड्स की क्षमता वाला पांच मंजिला अस्पताल व रघुवीर नगर में 1565 बेड की क्षमता वाला चार मंजिला अस्पताल का निर्माण जारी है.

691-691 बेड्स की क्षमता वाले 10 मंजिला अस्पताल

जानकारी के मुताबिक, सिरसपुर में 1164 बेड्स की क्षमता के साथ 11 मंजिला एक अत्याधुनिक अस्पताल का निर्माण करवाया जा रहा है. इस अस्पताल का निर्माण कार्य लगभग आधा पूरा हो ही चुका है और वर्ष 2023 में जून महीने के अंत तक ये अस्पताल बनकर तैयार हो जाएगा. ज्वालापुरी, मादीपुर व हस्तसाल (विकासपुरी) में 691-691 बेड्स की क्षमता वाले 10 मंजिला अस्पताल का निर्माण किया जा रहा है.

By Kajal

Leave a Reply

Your email address will not be published.