भारत के सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी देश के टोल व्यवस्था को बदलने के लगातार प्रयासों में लगे हुए हैं। ऐसे में अब इन सारी टोल व्यवस्थाओं में जीपीएस टोल सिस्टम जल्द लागू हो सकता है। भारत में यातायात को आधुनिक और सुविधाजनक बनाने के लिए नेशनल हाईवे अथॉरिटी लगातार प्रयास में लगी हुई है। जिसके तहत एक के बाद एक परिवर्तन होते रहते हैं।इन्हीं परिवर्तनों के बारे में परिवहन मंत्री के तमाम तरह के प्रयोग अक्सर चर्चा में रहते हैं। ऐसे में अब एक नया परिवर्तन सुर्खियों में है। भारत के सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी देश के टोल व्यवस्था को बदलने के लगातार प्रयासों में लगे हुए हैं। ऐसे में अब इन सारी टोल व्यवस्थाओं में जीपीएस टोल सिस्टम और नए नंबर प्लेट सिस्टम को लागू करने को लेकर बातों की कड़ी का सिलसिला जारी है।

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने इस बारे में कहा कि फिलहाल टोल लेने के लिए हमारे पास एक सिस्टम मौजूद है। लेकिन इसके बावजूद हम दो विकल्पों पर काम कर रहे हैं। जिसमें से पहला है सैटलाइट आधारित टोल-सिस्टम। इस सैटेलाइट टोल सिस्टम में कार में जीपीएस लगा होगा। जिससे कार में अपने आप ही टोल कट जाएगा।

इसके अलावा सन् 2019 से ही अथॉरिटी द्वारा नए तरीके की नंबर प्लेट बनाने की टेक्नोलॉजी पर काम तेजी से शुरू हो गया है। जिसके तहत अब मैन्युफैक्चरर के लिए यह नंबर-प्लेट लगाना बहुत जरूरी होगा। जिसके चलते पुरानी नंबर-प्लेट्स को नई नंबर प्लेट्स से बदल दिया जाएगा। वहीं इन नई नंबर-प्लेट्स से एक सॉफ्टवेयर कनेक्ट होगा। उसी से टोल टैक्स खुद ही कट जाएगा।

Author

  • Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

By Abhishek Raj

Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

One thought on “अब हाईवे पर गाड़ियों का खुद ही कट जाएगा टोल, आ गया GPS टोल सिस्टम”
  1. According to me charging toll fee from Private Car users is totally illegal.

    Because private car user is not doing any Commercial Transportation, so it is totally illegal, but byluck this is the biggest source of the government so this cannot be objected by any Mp Or Minister.

Leave a Reply

Your email address will not be published.