बसों से यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए खुशखबरी है. दिल्ली के अलग-अलग इलाके में बेहतर सुविधा और कनेक्टिविटी प्रदान करने के लिए सरकार ने मिनी बसों की संख्या को बढ़ाने का फैसला किया है. वहीं अभी दिल्ली में सिर्फ 72 रूट पर 799 मिनी बसें चलाई जा रही हैं. देश की राजधानी दिल्ली में 120 रूट पर सरकार 2000 मिनी बसें चलाने की योजना बना रही है.

इन रूटों पर चलेगी मिनी बसें

जानकारी के मुताबिक, लंबे रूट के लिए लोग बसों का प्रयोग ही नहीं कर रहे हैं. इसलिए सरकार द्वारा बेहतर फ्रीकवेंसी और लास्ट माइल कनेक्टिविटी के लिए छोटे रूट पर मिनी बस चलाने का फैसला किया गया है. सरकार ने अब स्टैंडर्ड बसों की संख्या 8494 कर दी है जो पहले की तरह ही 625 रूट पर चला करेगी. वहीं 72 रूट पर चलने वाली 700 मिनी बसों की संख्या को 2000 करने का निर्णय किया गया है. ये बसें बाहरी दिल्ली के बावना, नरेला बुराड़ी, नजफगढ़, छतरपुर, बदरपुर समित अन्य इलाकों में चला करेगी.

37 फीसदी लोग ही करते है सार्वजनिक बसों का उपयोग

बता दें की सरकार द्वारा बसों के रूट्स को लेकर दो लाख लोगों पर रेशनलाइजेशन को लेकर अध्यन किया गया था. इसमें पता चला की दिल्ली को मिनी बसों की अधिक आवश्यकता है. परिवहन अधिकारियों का कहना है कि बसों का अधिक प्रयोग निम्न और मध्यम वर्गीय इलाके वाले लोग ही करते हैं. यहां प्रति घंटे बसों के प्रयोग की संख्या 1300 यात्री से भी अधिक है. रेशनलाइजेशन अध्यन से पता चला है की 37 फीसदी लोग ही सार्वजनिक बसों को उपयोग करते हैं. दिल्ली में अभी तक 11 हजार स्टैंडर्ड बसों को चलाने की योजना बनाई गयी थी. जबकि इस समय दिल्ली में 7200 स्टैंडर्ड बसें ही चलाई जा रही हैं.

By Kajal

Leave a Reply

Your email address will not be published.