खगड़िया :- खगड़िया का एक किसान इन दिनों सुर्खियों में चर्चा का विषय बना हुआ है. जीएसटी विभाग द्वारा उसे 37.50 लाख रुपया का नोटिस थमा दिया गया है. नोटिस पढ़कर किसान दंग ही रह गया. उसका कहना है कि उसके रहने के लिए ठीक-ठाक घर तक नहीं है. उसकी मासिक आय केवल 8 हजार रुपए है. ऐसे में कैसे वह किसी कंपनी का मालिक हो सकता है. उसने खगड़िया DM को आवेदन देकर न्याय की मांग की है.

गिरीश ने दी जानकारी

बता दें की मामला खगड़िया जिले के अलौली थाना क्षेत्र के मेघौना गांव का है. किसान की पहचान मेघौना निवासी रतिलाल का 40 वर्षीय पुत्र गिरीश के रूम में हुई है. गिरीश ने बताया कि वह गांव में किसानी और मजदूरी करता है. दिन भर मजदूरी करके किसी तरह परिवार के साथ परिवार का भरण-पोषण करता हूं. पिछले 12 साल से बिहार से कहीं बाहर भी नहीं गया हूं. गांव में ही रहकर जीवन यापन कर रहा हूं. कहा कि मेरा पैन कार्ड का फर्जी तरीके से इस्तेमाल कंपनी बनाकर 37.50 लाख का बकाया कर दिया गया है.

टैन के ऊपर साढ़े 37.50 रुपए जीएसटी का बकाया

जानकारी के मुताबिक, GST विभाग की इस नोटिस में गिरीश यादव के नाम से राजस्थान के पाली में एक लिमिटेड कंपनी स्थापित है. गिरीश के टेंपरेरी अकाउंट नंबर यानी टैन के ऊपर साढ़े 37.50 रुपए जीएसटी का बकाया है. इसकी वसूली के लिए ही उसे नोटिस भेजा गया है. पूछने पर गिरीश ने बताया कि कभी राजस्थान मैं गया ही नहीं हूँ. ना ही राजस्थान में किसी को जानता हूं.

17 अगस्त को पोस्ट आफिस से प्राप्त हुआ नोटिस

गिरीश ने बताया कि मेरे डॉक्युमेंट का गलत इस्तेमाल कर कंपनी बनाया गया है. साइबर ठगों द्वारा फर्जी कंपनी खोली गयी और लाखों की टैक्स चोरी को अंजाम दिया गया है. उन्होंने बताया कि बीते 17 अगस्त को पोस्ट आफिस के माध्यम से उसे नोटिस प्राप्त हुआ था. उसके बाद अलौली थाना में भी शिकायत करने गए, लेकिन थानाध्यक्ष वहां पर नहीं थे. उसने घटना की जानकारी 20 अगस्त को डीएम आलोक रंजन घोष को आवेदन देकर शिकायत की गयी है.

दो सदस्यीय टीम गिरीश के घर पहुंची

बता दें की सोमवार को दो सदस्यीय अधिकारियों की टीम मेघौना गिरीश के घर पहुंची. वहां उन्होंने गिरीश के घर की छानबीन के साथ गिरीश के संबंध में लोगों से जानकारी प्राप्त की. गिरीश के रोजगार यहां कब से है, उनकी पहचान आदि को लेकर लोगों से जानकारी जुटाई. अधिकारियों ने मौके पर कुछ भी बताने से इंकार किया है. केवल आयकर विभाग से होने की बात कही है. उन्होंने नोटिस से संबंधित किसी तरह की जानकारी देने से इंकार कर दिया है.

By Kajal

Leave a Reply

Your email address will not be published.