नई दिल्ली :- द‍िल्‍ली की साउथ ईस्ट डिस्ट्रिक्ट के साइबर सेल की पुलिस टीम ने पर्दाफाश किया है. ये रैकेट स्टूडेंट्स को डिग्री उपलब्ध करवाते हैं वह भी बैक डेट (पिछली तारीख) साल की और देश की किसी भी यूनिवर्सिटी से. इस मामले में एक दो नहीं बल्कि छह आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है. खास बात तो यह है कि गिरफ्तार किए गए आरोपियों में से चार लड़कियां भी शामिल हैं.

प्रमाण पत्र प्रदान करने के बहाने निर्दोष लोगों को धोखा

बता दें की टीम को फर्जी एजुकेशन सेंटर के बारे में गुप्त सूचना मिली, जो किलोकरी गांव, सनलाइट कॉलोनी में माउंटेन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी के नाम से चल रहा था. पुलिस ने जब छापेमारी की तो चार युवतियां टेलीफोन पर बातचीत में व्यस्त दिखाई दी. टीम ने सभी को पकड़ लिया और पूछताछ करने पर वे प्रमाणित विश्वविद्यालयों से बीबीए/बीसीए/एमसीए आदि जैसे विभिन्न पाठ्यक्रमों के बैक डेटेड मार्कशीट, डिग्री और प्रमाण पत्र प्रदान करने के बहाने निर्दोष लोगों को धोखा देने में लिप्त पाए गए.

लड़कियों को सेंटर से और ओनर को घर से पकड़ा

जानकारी के मुताबिक, फर्जी सर्टिफिकेट और अन्य सामान के साथ माउंटेन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी के नाम पर पेमेंट स्लिप भी बरामद की गई है. पूछताछ में पता चला की इस सेंटर का ऑनर रेहान और कैफ है, जो तैमूर नगर, दिल्ली और उत्तमनगर, दिल्ली में रहता है. उनके घर पर रेड मारकर दोनो को गिरफ्तार किया गया.

बरामद हुई अनेक चीजें

बता दें की इनके पास से पुलिस टीम ने काफी मात्रा में फर्जी डिग्रियां, मार्कशीट, बैक डेट की डिग्रियां और डाटा के साथ-साथ प्रिंटर, डिग्री बनाने में इस्तेमाल किए जाने वाले काफी मात्रा में अन्य सामान के साथ 6 मोबाइल भी बरामद किये है. इसकी पुष्टि डीसीपी साउथ ईस्ट ईशा पांडे ने की है. पुलिस के अनुसार, साइबर पुलिस स्टेशन की टीम को इस फर्जीवाड़े के बारे में जानकारी मिली थी. उसी जानकारी पर इस फर्जी एजुकेशन सेंटर का भंडाफोड़ किया गया है.

By Kajal

Leave a Reply

Your email address will not be published.