ट्रेन में सफर करने वाले यात्रियों के लिए भारतीय रेलवे द्वारा एक नई सुविधा प्रस्तुत की गई है. यदि आप भी ट्रेन में सफर करते हैं और ट्रेन में मिलने वाले खाने को पसंद करते हैं तो आपके लिए एक बहुत ही अच्छी खबर है. अब आपको खाने पीने की वस्तुओं के लिए पैसे नहीं देने होंगे
दरअसल रेलवे द्वारा अब केश की झंझट को ही खत्म कर दिया गया है. यानी कि अब से हमें ट्रेनों में खाने पीने की वस्तुओं के लिए डिजिटल पेमेंट (Digital Payment) देना होगा. लखनऊ से नई दिल्ली की डबल डेकर अमरनाथ और कुशीनगर एक्सप्रेस जैसी ट्रेनों में अब इस सेवा का शुभारंभ कर दिया गया है.

रेलवे ने इसलिए लिया ये फैसला

यदि आप कहीं ट्रेन में सफर करने के लिए जा रहे हैं तो आपके लिए यह खबर देखना बहुत आवश्यक है. भारतीय रेलवे के द्वारा अब ट्रेन में मिलने वाली खाने पीने की चीजों के लिए अब आपसे केश (Cash) में भुगतान नहीं लिया जाएगा, बल्कि यात्रियों को डिजिटल पेमेंट का भुगतान करना होगा. हालांकि इसके लिए यात्रियों के पास नगद भुगतान का विकल्प भी पहले ही तरह बना रहेगा. मोदी सरकार डिजिटल को लेकर लगातार प्रयासरत हैं ऐसे में अब रेलवे ने भी इस व्यवस्था को शुरू कर दिया है जिससे कि यात्रियों को अपने पास अधिक पैसे रखने के झंझट से छुटकारा मिल जायेगा.

शिकायत मिलने पर की जाएगी कार्रवाई

दरअसल बता दें की ट्रेन में सफर करने वाले यात्रियों की तरफ से पेंट करो या फिर वेंडरों से रेल नीर 15 के बजाए 20 रुपये में बेचते हुए ओवरचार्जिंग की शिकायतें लगातार मिल रही है. यात्रियों द्वारा वैशाली एक्सप्रेस वे में खाने की प्लेट के साथ नैपकिन ना होना, खाने की प्लेट दो जगह से क्रैक होना आदि शिकायतें की गई है वह पैंट्रीकार संचालकों ने सफाई देते हुए कहा है कि ऐसे मामले एक – दो ही हो सकते हैं. ओवरचार्जिंग ज्यादातर अवैध वेंडर ही करते हैं. इसके बाद अब मुख्य क्षेत्रीय प्रबंधक अजीत कुमार सिन्हा द्वारा अधिक पैसा वसूलने की शिकायत पर जांच में सही पाए जाने पर कार्रवाई के निर्देश दे दिए गए हैं.

Author

  • Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

By Abhishek Raj

Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

Leave a Reply

Your email address will not be published.