उत्तर प्रदेश राज्य में सरकार का यह फैसला है की दिवाली में तीन दिनों का मेले लगाकर मिट्टी कला का आयोजन करने का प्लान है। योगी जी का कहना है की कुम्हारी कला से जुड़े कारीगरों की कौशल वृद्धि के साथ ही प्रति परिवार औसत आय बढ़ाना चाहती है।

यूपी की सरकार का लक्ष्य है हर बड़े छोटे व्यवसाय को लाभ देना और राज्य की वृद्धि करना। यूपी माटी कला बोर्ड मध्यम से 46737 मिट्टी की चीज़े बनाने वालो को चिन्हित कर उन्हें बोर्ड की योजनाओं से लाभान्वित किया गया है।474 कारीगरों को 811.85 लाख रुपये का ऋण दिला कर उनके कारोबार को बड़ा करने का काम भी किया गया है।

सूत्रों के मुताबिक ये कहा जा रहा है की सरकार का कहना हैं की इस दिवाली सभी घरों में दिया जलेगी जो खरीदते है वो भी जो बेचते हैं वो भी।लाभ सभी को मिलेगा।प्रदेश के सभी जिलों में तीन दिन का मेला लगाया जाएगा जबकि राज्य के राजधानी लखनऊ में 10 दिन का मेला आयोजित किया जायेगा।

 

सूत्रों का कहना है यह जानकारी अपर मुख्य सचिव खादी एवं ग्रामोद्योग डा. नवनीत सहगल ने दी है। उन्होंने बताया है कि प्रदेश सरकार के प्रयासों व योजनाओं से प्रदेश में कुम्हारी कला से जुड़े कारीगरों की कौशल वृद्धि के साथ ही प्रति परिवार औसत आय में दोगुनी तीन गुनी वृद्धि होगी।

उनका कहना है की मिट्टी के काम से जुड़े लोगो को 28,000 कारीगरों को मिट्टी निकालने के लिए राजस्व पट्टे आवंटित कराए गए हैं। माटीकला के लिए टूल किट वितरण योजना के तहत कारीगरों में 8190 इलेक्ट्रिक चाक का वितरण भी किया गया है। और भी बहुत सारे योजनाओं के द्वारा ये प्लान किया गया है की अधिक से अधिक कारगर इसमें हिस्सा ले सके और सभी का विकास हो।

Author

  • Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

By Abhishek Raj

Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

Leave a Reply

Your email address will not be published.