सूत्रों से पता चला है की गोरखपुर से शामली तक बनने वाले करीब सात सौ किलोमीटर तक के एक्सप्रेस-वे पर हवाई पट्टी बनने का प्लान किया गया है। इस हवाई पट्टी पर लड़ाकू विमान को भी उतार जायेगा। चीन की सीमा पास होने से यह हवाई पट्टी काफी महत्पूर्ण मानी जा रही है।

भारत और नेपाल के बीच तराई क्षेत्र से होकर गुजरने वाले 700 किलोमीटर लंबे गोरखपुर-शामली एक्सप्रेस-वे से यातायात में ही परेशानी का है नहीं मिलेगा बल्कि जायदा मुश्किल के घड़ी में स्थिति में भी इसका उपयोग किया जा सकेगा। इस एक्सप्रेस-वे पर एयर स्ट्रिप (हवाई पट्टी) बनाने का काम शुरू होने वाला है, जिसका इस्तेमाल नेपाल के रास्ते चीन से मिलने वाली चुनौतियों से निपटने में किया जाएगा।

एनएचएआइ ने सड़क के लिए सर्वे चालू कर दिया है। चरण में ऐसी जगह की तलाश की जा रही है, जहां तीन किलोमीटर लंबाई में बिल्कुल सीधी सड़क बनाई जा सके, जिससे एयर स्ट्रिप बनाने में आसानी हो।

 

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण की चेयरपर्सन अलका उपाध्याय ने पिछले दिनों गोरखपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिल कर इसकी प्रगति से अवगत कराया था।

मुख्यमंत्री ने सुझाव दिया था कि इस एक्सप्रेस-वे के मार्ग में कुछ बदलाव कर इसे भारत-नेपाल के बीच तराई क्षेत्र से गुजारा जाए,ताकि यह इलाके भी विकास से सीधे जुड़ सके। एनएचएआइ की चेयरपर्सन ने इस पर सहमति जताते हुए इसका सर्वे शुरू कराने का आश्वासन दिया था। मुख्यमंत्री के साथ हुई वार्ता के बाद भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआइ) ने इस एक्सप्रेस-वे का सर्वे शुरू कर दिया है।

तराई एक्सप्रेस वे के लिए सर्वे शुरू हो चुका है। प्लान किया जा रहा है की गोरखपुर में इसे कहां से शुरू किया जाए। साथ ही इस पर भी ध्यान दिया जा रहा है कि गोरखपुर- नेपाल के बीच तीन किमी सीधा एक्सप्रेस बन सके। इससे एयर स्ट्रिप की राह आसान हो जाएगी।

Author

  • Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

By Abhishek Raj

Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

Leave a Reply

Your email address will not be published.