“टिकट नहीं है फिर भी चढ़ गए ट्रैन में की टीटीई को पैसा देंगे वो मैनेज कर देगा।” आप भी ऐसा सोचते है तो अब हो जाये सावधान, क्यूंकि  अब टीटीई  चार्टिंग हो जाने के बाद खाली होने वाली सीटें किसी की अपने मन से अलॉट नहीं कर पाएंगे। आपको बता दें की श्रमशक्ति एक्सप्रेस और कानपुर शताब्दी से इस  सिस्‍टम की शुरुआत की जा रही है और जल्‍द ही अन्‍य ट्रेनों में भी इसे लागू किया जा सकता है।

इस सिस्‍टम के लागू होने के बाद असली हकदार को ही सीट देनी होगी। इस सिस्टम को हैंड हेल्ड टर्मिनल मशीन के द्वारा संभव किया जायेगा। रेलवे प्रशासन ने पहले स्वर्ण शताब्दी के चलित चेकिंग स्टाफ को मशीन दी और फिर रविवार को श्रमशक्ति एक्सप्रेस के टीटीई दल को भी यह मशीन सौंप दिया गया।

इस सिस्टम के लगने से  टीटीई को भी अतिरिक्त किराए के आकलन में माथापच्ची नहीं होगी बस एक क्लिक पर पता चल जाएगा कि अमुक स्टेशन पर कितना किराया चार्ज करना है। हालाँकि, भविष्य में ये मशीनें हर चेकिंग दल को दी जाएंगी।

एनसीआर के सीपीआरओ डॉ. शिवम शर्मा ने यह बताया की इस नई सुविधा से यात्रियों की  परेशानी काफी हद तक कम होगी। टीटीई खाली सीट या आरएसी कंफर्म होने पर प्राथमिकता वाले यात्रियों को आवंटन कर सकेंगे, क्योंकि उन्हें खाली सीटें आवंटन को इस मशीन में फीड करना अनिवार्य होगा।

15 मिनट पहले तक का डाटा अपडेट रहेगा इस मशीन में
टीटीई को  ट्रेन चलने के 15 मिनट पहले हैंड हेल्ड टर्मिनल मशीन पर आरक्षण चार्ट डाउनलोड करेगा। यह मशीने रेलवे के आरक्षण सर्वर क्रिस से सीधे तौर पर कनेक्टेड रहेगी जिससे चार्टिंग के बाद का सारा अपडेट उस मशीन में फीड हो जाएगा। गौरतलब है की पहल आरक्षण चार्ट ट्रेन चलने के तीन घंटे पहले प्रिंट होता था जिसके  बाद सीटें खाली होने पर टीटीई अपनी मर्जी से आवंटन करता था।

इन ट्रेनों में आज से सुविधा
कानपुर शताब्दी, श्रमशक्ति एक्सप्रेस, प्रयागराज एक्सप्रेस और आगरा-दिल्ली इंटरसिटी इन सभी ट्रेनों में आज से ये नयी सुविधा शुरू हो जाएगी।

Author

  • Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

By Abhishek Raj

Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

Leave a Reply

Your email address will not be published.