यूपी के मुख्य शहर गोरखपुर सहित पूर्वांचल के सभी बस यात्रियों को एक बड़ी सौगात मिली है,  मिली जानकारी के अनुसार भारतीय दूतावास ने गोरखपुर से काठमांडू के बीच एसी बस सेवा के लिए हामी भर दी है,  जिसकी शुरुआत इस साल के दशहरा से हो सकती है।

आपको बता दें की, इस शानदार बस के शुरू होने से गोरखपुर सहित पूर्वांचल के बस यात्रियों  तथा पर्यटकों को काफी राहत मिलेगी, क्योंकि गोरखपुर के रास्ते हर साल लाखों पर्यटक नेपाल के लिए जाते हैं जिसके लिए एसी बस की सुविधा उपलब्ध होने के बाद यात्रा और भी सुगम एवं आरामदायक हो जाएगा।

2 साल से किया जा रहा था प्रयास

गौरतलब है की, इस बस सेवा को शुरू करने का प्रयास यूपी परिवहन निगम द्वारा लगभग 2 साल पहले से किया जा रहा था, लेकिन  नेपाल ट्रांसपोर्ट कोरोनावायरस के वजह से यह सेवा शुरू नहीं कर पा रही थी।अब जबकि स्थिति सामान्य हो चुकी है तो बातों का सिलसिला अब  दोबारा बातचीत शुरू हो गई है जिसके लिए इसी साल फरवरी महीने में नेपाल के ट्रांसपोर्ट विभाग के प्रतिनिधिमंडल गोरखपुर के अधिकारियों से  बस सेवा चर्चा के लिए मिले थे।

दोनों तरफ से हुए इस चर्चा में कई खास मुद्दों पर बातचीत की गई जिसमें बसों के किराया, रूट एवं रखरखाव इत्यादि मुद्दे शामिल थे,  रिपोर्ट तैयार होने के बाद लखनऊ मुख्यालय ने गोरखपुर से काठमांडू एसी बस सेवा के  परिचालन के लिए परमिट जारी कर दिया है। और ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है की अगले दो- तीन महीनों के बीच इस बस सेवा की सभी प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी और बस को चालू कर दिया जायेगा।

हालाँकि, अभी इस परिचालन की अनुमति इंडियन एंबेसी की ओर से ही मिली है जबकि नेपाल एंबेसी के अनुमति अभी बाकी जिसका इंतजार किया जा रहा है,  अनुमति मिलते ही दोनों देशों के बीच एक समझौते पर हस्ताक्षर होगा जिसके बाद यह  बस सेवा सुचारु रुप से चालू  हो जाएगी,  आपको बता दें की यह जानकारी यूपी परिवहन निगम के क्षेत्रीय प्रबंधक पीके तिवारी ने साझा की है।

नोट:- यह एक काल्पनिक तस्वीर है।

Author

  • Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

By Abhishek Raj

Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

Leave a Reply

Your email address will not be published.