अगले साल से दिल्ली से मेरठ का सफर सिर्फ 55 मिनट में पूरा हो जाएगा, क्योंकि रैपिड रेल का परिचालन शुरू होने जा रहा है। इस बीच नवंबर महीने में दिल्ली से मेरठ के बीच चलने वाली रैपिड रेल का ट्रायल शुरू होना की संभावना है, जिसके बात संबंधित विभाग की अनुमति मिलने के बाद इसका परिचालन शुरू कर दिया जाएगा।

दिल्ली से मेरठ के बीच कुल 82 km लंबे रूट पर अगले साल जून के बाद से रैपिड रेल चलने की उम्मीद है। जबकि इस कॉरिडोर के 17 km लम्बे पहले खंड (साहिबाबाद से दुहाई) के बीच रैपिड ट्रेन का परिचालन मार्च 2023 से शुरू होने की उम्मीद दिखाई दे रही है। इसके लिए नवंबर, 2022 में ट्रायल शुरू हो जाएगा। यह भी बता दें कि 2025 तक पूरी तरह से परिचालन शुरू करने का लक्ष्य है।

दिल्ली मेरठ के बीच रफ्तार से चलने वाली रैपिल रेल 55 घंटे के अंदर एक छोर से दूसरे छोर पर पहुंचेगी। इसकी खूबी यह भी है कि आपातकालीन स्थिति में रैपिड ट्रेन से मरीज को स्ट्रैचर पर अस्पताल ले जाया जा सकेगा। मिली आधिकारिक जानकारी के अनुसार, रैपिड रेल के प्रत्येक ट्रेन में कुल छह कोच होंगे। एक कोच में 75 यात्री यात्री कर सकेंगे, जबकि इनमें से एक कोच महिलाओं के लिए आरक्षित होगा। बता दें कि दिल्ली मेट्रो में भी एक कोच महिला यात्रियों के लिए आरक्षित होता है।

हर रेलगाड़ी के तरह इसमें भी बिजनेस क्लास होगा

सूत्रों के अनुसार, रेपिड रेल के अंतर्गत दिल्ली से मेरठ के बीच चलने वाली ट्रेनों के अंदर एक बिजनेस क्लास कोच भी होगा। इस कोच में कई अतिरिक्त सुविधाएं भी होंगीं, जिसमें खान-पान का सामान उपलब्ध रहेगा। प्रीमियम कोच में दरवाजे लगे होंगे और सभी को अंदर जाने की इजाजत नहीं होगी।और तो और चाय का भी आनंद ले सकेंगे।

मोबाइल चार्ज करने में होगी आसानी

बिजनेस क्लास के कोच में दायें-बायें दो-दो सीट बैठने के लिए होंगी। इसके अलावा हर सीट के पास मोबाइल चार्ज करने की सुविधा मिलेगी।

यात्रियों को मिलेगी वाइफाइ की सुविधा

दिल्ली मेरठ के बीच चलने वाली रैपिड रेल कई तरह की आधुनिक सुविधाओं से भरी है। इसके तहत यात्रियों को ट्रेन के अंदर वाई-फाई सुविधा भी मिलेगी। इसके अतिरिक्त ट्रेन के प्रत्येक कोच में सामान रखने के लिए अलग से रैक लगी मिलेगी।

हर 5 मिनट में ट्रेन की सुविधा

दिल्ली मेरठ के बीच बड़ी संख्या में लोग रोजाना सफर करते हैं। नोएडा, गाजियाबाद और दिल्ली में रोजाना काम करने आने वालों की संख्या हजारों में है और इनलोगो का अन्ना जाना हार रोज का है। इनके घर मेरठ, गाजियाबाद में हैं, इसलिए ये रोजाना अपने घर जाना पसंद करते हैं। इसका भी ध्यान विशेष रूप से रखा गया है। यही वजह है कि दिल्ली-मेरठ के बीच ट्रेन 5 से 10 मिनट के बीच मिला करेगी।जिससे लोगो को आसानी हो और भीड़ भी न लगे।

लाखों लोग रोजाना करेंगे सफर

दिल्ली-मेरठ के बीच दौड़ने वाली मेट्रो रेल के जरिये दोनों शहरों के बीच की दूरी सिर्फ 55 मिनट की रह जाएगी। ऐसे में करीब-करीब 8 लाख यात्री रोजाना रैपिड रेल के जरिये यात्रा कर सकेंगे।

अब लाइनों में लग कर टिकट लेने की अवयशक्ता नही

दिल्ली-मेरठ कारिडोर पर दौड़ने वाली रैपिड ट्रेन बेहद आधुनिक सुविधाओं के साथ आएगी। रैपिड रेल में यात्री बिना टिकट और स्मार्ट कार्ड के भी सफर कर सकेंगे।
लोगों को न तो टिकट काउंटर की लाइन में लगने की जरूरत होगी और न ही नकद पैसा रखने की ही जरूरत होगी। दरअसल, ई टिकट का क्यू आर कोड स्कैन करके स्टेशन पर पहुंचकर सीधे ट्रेन में चढ़ा जा सकेगा। कुल मिलाकर इससे आपका समय बचेगा। और भीड़ भी कामेगा।

आप लोगो के सफर को बनाएगा आसान और बेहद मंगलमय

दिल्ली मेरठ के बीच सफर करने वाले यात्री अपने मोबाइल फोन में डाउनलोड करके यात्री अपना टिकट खुद से जेनरेट कर सकेंगे। इसके लिए एक ऐप तैयार हो रहा है। इस ऐप खोलकर उन्हें सिर्फ यह क्लिक करना होगा कि यात्रा कहां से कहां तक करनी है। ऐसा करते किराये के बारे में जानकारी स्क्रीन पर आ जाएगी। इसके बाद जैसे ही पेटीएम या अन्य किसी माध्यम से इसका भुगतान होगा आपके मोबाइल पर ही क्यू आर कोड सहित ई टिकट आ जाएगा।जिससे आपका समय और मेहनत दोनो ही बचेगा।

Author

  • Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

By Abhishek Raj

Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

Leave a Reply

Your email address will not be published.