केंद्रीय बजट में रोड कनेक्टिविटी और गांवों से जुड़ी योजनाओं के जरिए यूपी को काफी कुछ देने की कोशिश की गई है। प्रदेश को जल्द ही चार नए एक्सप्रेस मिलेंगे। विशेषज्ञों का मानना है कि यूपी को एक ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने में यह बजट अहम भूमिका निभा सकता है। 2022-23 में प्रदेश को केंद्रीय करों से 1.46 लाख करोड़ रुपये मिलने की उम्मीद है। इसके अलावा फाइनैंस कमिशन ग्रांट में 15,003 करोड़ रुपये मिलेंगे। ग्रामीण स्वच्छ भारत मिशन के लिए 1,900 करोड़ रुपये मिलने का अनुमान है।

बिछेगा एक्सप्रेस-वे का जाल
वाराणसी से कोलकाता तक एक्सप्रेस-वे का निर्माण किया जाएगा। यह एक्सप्रेस-वे 642 किलोमीटर लंबा होगा। इसके अलावा कानपुर से लखनऊ (63 किमी) के बीच बनने वाले एक्सप्रेस-वे के लिए बजट में प्रावधान किया गया है। गोरखपुर-सिलीगुड़ी कॉरिडोर (520 किमी) भी बनेगा। यूपी को नेपाल से जोड़ने के लिए सोनौली से गोरखपुर तक 80 किमी लंबा हाइवे बनाया जाएगा।

उत्तर प्रदेश के हर गांव तक साफ पानी पहुंचाने के लिए जल जीवन मिशन के तहत करीब 12,000 करोड़ रुपये खर्च होंगे। इसके तहत बुंदेलखंड, विंध्य क्षेत्र और तराई वाले इलाकों में हर घर तक नल से साफ पानी पहुंचाने का काम किया जा रहा है।

6,241 करोड़ से बच्चों की पढ़ाई में होगा सुधार
प्रदेश में शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए समग्र शिक्षा अभियान के लिए 6,241 करोड़ रुपये मिलेंगे। नमामि गंगे परियोजना में 500 करोड़ रुपये, अटल भूजल योजना में 170 करोड़ रुपये मिलने की उम्मीद है। प्रदेश में करीब 46,627 करोड़ के इंफ्रास्ट्रक्चर प्रॉजेक्ट्स पर काम होने की उम्मीद है। इसके अलावा केन-बेतवा नदी को जोड़ने से उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश दोनों को फायदा होगा। 44,605 करोड़ रुपये के इस प्रॉजेक्ट पर 2022-23 में 1,400 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है।

Author

  • Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

By Abhishek Raj

Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

Leave a Reply

Your email address will not be published.