नई दिल्ली :- पेट्रोल-डीजल और सीएनजी की कीमतों में बढ़ोतरी को देखते हुए अब निजी वाहन से चलना महंगा हो गया है। पेट्रोल डीजल के दाम बढ़ते ही ऑटो-टैक्सी सेवा भी महंगी हो सकती हैं, क्योंकि बढ़ी कीमतों के विरोध में टैक्सी यूनियनों ने विरोध शुरू कर दिया है। यूनियन सीएनजी की कीमतों में कटौती के लिए वैट घटाने की मांग कर रही है और इसकी शुरुआत हो चुकी है।

18 अप्रैल से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की ऐलान

दिल्ली टैक्सी, टूरिस्ट ट्रांसपोर्ट एवं टूर ऑपरेटर एसोसिएशन के बैनर तले ड्राइवरों के धरने से हो गई है। बता दें 11 अप्रैल को दिल्ली सचिवालय पर धरना है और फिर 18 अप्रैल से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर भी जाने की ऐलान किया गया है। इस एसोसिएशन के अध्यक्ष संजय सम्राट ने कहा कि डीजल और सीएनजी की कीमतें बढ़ने से पर्यटकों की ओर से बुकिंग बेहद कम हो गई है।

लगातार कीमतें बढ़ने से टैक्सी चलाना मुश्किल हो रहा

इस बारे में बात करते एसोसिएशन ने कहा कि लगातार कीमतें बढ़ने से टैक्सी चलाना मुश्किल हो रहा है, इसलिए सरकार सीएनजी और अन्य पेट्रोलियम उत्पाद को भी जीएसटी के दायरे में लेकर आए। ओला-उबर जैसी टैक्सी का किराये के लिए भी लोगों ने दिल्ली सरकार को तय किए जाने की मांग उठाई गई। सरकार अपने स्तर पर किराया निर्धारित करे। साथ ही सरकार सीएनजी पर संचालित बस और टैक्सी मालिकों को सब्सिडी प्रदान करे। उन्होंने सरकार से अपील करते हुए कहा कि सरकार पेट्रोल की तरह डीजल पर भी वैट को कम करे। वहीँ फिटनेस के समय ली जाने वाली लेट फीस और जुर्माना हटाने की भी मांग की।

Author

  • Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

By Abhishek Raj

Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

Leave a Reply

Your email address will not be published.