पांच राज्यों से गुजरने वाले दिल्ली मुंबई बडोदरा एक्सप्रेस का काम जोरो शोरो पर चल रहा है लेकिन इस एक्सप्रेस वे के निर्माण के बीच में अवैध निर्माण की वजह से दिक्कत खड़ी हो रही है। बता दें इस सड़क के निर्माण के लिए चौड़ी सड़क की आवश्यकता होती है लेकिन पेट्रोल पंप, सीएनजी स्टेशन और अवैध निर्माण ब्रेकर बनकर खड़े हो गए है, इनकी वजह से सर्विस लेन भी तैयार नहीं हो पाई है। हालांकि इस एक्सप्रेस वे के निर्माण के लिए प्रशासन ने इन सभी स्पीड ब्रेकर को हटाने के लिए योजना तैयार कर ली है। इस एक्सप्रेसवे ने 24 घंटे में ही चार रिकार्ड बना दिए थे, लेकिन अवैध निर्माण की वजह से इसका कार्य रुका हुआ था। लेकिन अब इस एक्सप्रेस वे काम को रफ्तार मिलेगी।

पिलर बनाने का काम तेजी पर

यह दिल्ली मुंबई बडोदरा एक्सप्रेस वे फरीदाबाद बाईपास को डीएनडी फ्लाईओवर से सोहना तक बनाया जा रहा है इसलिए बाईपास को 12 लेन का किया जा रहा है। 12 लेन का हो जाने के बाद यह बाईपास ग्रेटर फरीदाबाद सहित अनेक क्षेत्रों के लोग सीधा दिल्ली मुंबई बडोदरा एक्सप्रेस वे से कनेक्ट हो जाएंगे। बाईपास रोड पर 20 किलोमीटर तक पिलर बनाने का काम तेजी से चल रहा है।

सड़क के कार्य में अवैध निर्माण की वजह से हो रही है बाधा

बाईपास रोड पर कई तरह के अवैध निर्माण बने हुए है। हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण की ओर बाईपास रोड पर बने कई तरह के अवैध निर्माण को हटाया गया था, लेकिन लोगों ने फिर से इस सड़क पर अवैध निर्माण बनाकर कब्जा कर लिया। एनएचआई ने को इस सडक़ निर्माण के लिए चौड़ी सड़क की आवश्यकता है जिसके लिए एनएचएआई ने हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण से सडक़ के दोनों तरफ 70 मीटर चौड़ी जगह मांगी है लेकिन इस अवैध निर्माण के चलते सडक़ के किनारे पेट्रोल पंप काम में बाधा बन गए है। बता दे कि बदरपुर बॉर्डर से कैली गांव तक नौ पेट्रोल पंप और सीएनजी स्टेशन है और सीएनजी स्टेशन को शिफ्ट करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

2018 में की गई थी योजना

इस बाईपास को 12 लेन बनाने का काम रफ्तार पकड़ सके इसलिए हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण पेट्रोल पंप और सीएनजी स्टेशन को शिफ्ट करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है इसके अलावा इस एक्सप्रेसवे का काम भी तेजी से हो सकेगा। एनएचएआई के अनुसार 2018 में इस एक्सप्रेसवे बनाने की योजना की गई थी।

इस एक्सप्रेस वे का पहला हिस्सा करीबन नौ किलोमीटर होगा जो की डीएनडी फ्लाईओवर से लेकर मीठापुर तक जाएगा। वहीं इस एक्सप्रेस वे का दूसरा हिस्सा मीठापुर से बल्लभगढ़ में मलेरना पुल तक जाएगा। यह हिस्सा 24 किमी का होगा। इसका तीसरा हिस्सा 26 किलोमीटर होगा जो कि मलेरना पुल से सोहना तक जाएगा। यह एक्सप्रेस वे दिल्ली के डीएनडी फ्लाईओवर से शुरू होगा और आगरा नहर के साथ साथ आकर सेक्टर-37 बाईपास से जुड़ेगा।

रोजगार के मिलेंगे अवसर

दिल्ली मुंबई बडौदरा एक्सप्रेसवे हरियाणा, दिल्ली, मध्य प्रदेश राजस्थान और महाराष्ट्र के पिछड़े इलाकों से गुजरेगा। एक्सप्रेस वे 5 राज्यों की ग्रोथ को बढ़ाने में काम करेगा। वही इस एक्सप्रेस वे के जरिए लोगों को रोजगार की सुविधा भी प्राप्त होगी।

24 घंटे में बनाए 4 रिकॉर्ड

24 घंटे में दिल्ली मुंबई बडोदरा एक्सप्रेसवे ने चार रिकार्ड बना दिए थे। इसकी जानकारी केंद्रीय मंत्री नितिन गडक़री ने संसद में दी थी। बता दें दिल्ली मुंबई बडोदरा एक्सप्रेसवे 24 घंटो में सबसे ज्यादा पेवमेंट क्वालिटी क्रंकीट बिछाई गई। क्वालिटी कंक्रीट 24 घंटों में सबसे ज्यादा पेवमेंट तैयार की गई। लगभग 18.74 चौड़ाई की पेवमेंट क्रंकीट 24 घंटों में लगातार बिछाई गई।

नोट:- यह एक काल्पनिक तस्वीर है।

 

 

Author

  • Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

By Abhishek Raj

Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

Leave a Reply

Your email address will not be published.