दिल्ली परिवहन निगम बोर्ड ने राष्ट्रीय राजधानी में स्वच्छ सार्वजनिक परिवहन प्रणाली का मार्ग प्रशस्त करते हुए 1500 बसें सड़कों पर उतारने की मंजूरी दे दी है। बता दें पिछले सप्ताह हुई बोर्ड की बैठक में डीटीसी के चेयरमैन को इस नई प्रणाली को लागू करने के लिए अधिकृत किया गया है। राजघाट डिपो से सर्कुलर रूट पर डीटीसी ने पहली इलेक्ट्रिक बस सेवा की शुरुआत कर दी है।

मार्च के अंत तक 198 और ई-बसों को बेड़े में शामिल करने के लिए भी बोर्ड ने एक कंपनी को स्वीकृति दे दी है। सीईएसएल ने अपनी ग्रैंड चैलेंज योजना के तहत पहले चरण में पांच महानगरों बेंगलुरु, सूरत, हैदराबाद, कोलकाता और दिल्ली में 5,450 सिंगल डेकर और 130 डबल डेकर सहित 5580 ई-बसों के परिवहन बेड़े में शामिल करने के लिए टेंडर किया था।

डीटीएस ने दिल्ली की सड़कों पर 1500 एसी लो फ्लोर एलिक्ट्रिक बसों को उतारने को मंजूरी दी है। बोर्ड ने सब्सिडी के मद में इन बसों के लिए 318.45 करोड़ रुपये सहित बिजली के बुनियादी ढांचे पर होने वाले खर्च के लिए दिल्ली सरकार से विचार-विमर्श के लिए डीटीसी के प्रबंध निदेशक से कहा है। वहीं इस साल जुलाई तक ई-बसों की पहली खेप सड़कों पर आने की उम्मीद है।

Author

  • Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

By Abhishek Raj

Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

Leave a Reply

Your email address will not be published.