बसों की कमी को देखते सरकार द्वारा एक अहम कदम उठाया गया है। बता दें पब्लिक स्कूलों की डीटीसी की बसें अब किराये पर नहीं मिलेंगी। सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि बसों पर यात्रियों का दबाव बढ़ रहा है, सार्वजनिक परिवहन को मजबूत किया जाना भी जरूरी है। डीटीसी के पास इस समय 3761 बसें हैं वहीं करीब 580 बसे स्कूलों को मुहैया करवाई जाती हैं।

स्कूल को बस देना असंभव

हालाकि कोविड के कारण पिछले दो साल से स्कूल बंद चल रहें थें तब स्कूलों में बसें नहीं चल रही थीं। अब स्कूल खुलने के बाद डीटीसी ने स्कूलों से कहा है कि वे स्कूल ट्रांसपोर्ट के लिए वैकल्पिक इंतजाम देखें। डीटीसी का कहना है जब तक नई बसें नहीं आ जाती तब तक मौजूदा बसों में से स्कूल को बस देना असंभव है। वहीं कानून-व्यवस्था की ड्यूटी के लिए बसें मुहैया करवाई जाएंगी।

300 बसें दी जाती है दिल्ली पुलिस समेत सुरक्षा एजेंसियों को

डीटीसी की ओर इन 3761 बसों में से कुछ बसें दिल्ली पुलिस समेत सुरक्षा एजेंसियों को भी मुहैया करवाई जाती रही हैं। जिनमे करीब 300 से ज्यादा बसें होती हैं। किंतु बसों की कमी के कारण अब पुलिस को केवल विशेष परिस्थितियों में ही कुछ बसें दी जा रही हैं। परिवहन मंत्री से अनुमति लेने के बाद समाज कल्याण विभाग के स्पेशल श्रेणी के बच्चों को स्कूल लाने व ले जाने के लिए बसें दी जा रही हैं। डीटीसी में 1000 लो-फ्लोर बसें आनी थीं जो अब तक नहीं आई। जिसके लिए भाजपा विधायक की शिकायत के बाद सीबीआइ जांच की जा रही है। ऐसे में इन बसों के आने पर फिलहाल रोक लगी हुई है।

अभिभावकों को देने पड़ेंगे दुगना किराया

वहीं डीटीसी द्वारा दिल्ली के निजी स्कूलों को बसे न उपलब्ध होने पर स्कूलों के प्रधानाचार्यो ने उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से बात की है। उनके मुताबिक जहां कोरोना के पहले तक अभिभावकों से बस के किराये के दो हजार रुपये लिए जाते थे वहीं कोरोना के बाद डीजल का दाम बढ़ गया है जिससे बसों का किराया भी बढ़ा है। अब डीटीसी की बसें नहीं मिलने से अभिभावकों को दोगुना दाम देने पड़ेंगे।

प्रति छात्रों से चार से पांच हजार रुपयों की मांग

प्रधानाचार्यो ने निजी बस संचालकों से संपर्क किया है जो कि प्रति छात्र चार से पांच हजार रुपये की मांग कर रहे हैं। उनके मुताबिक उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से इस संबंध में बात की है कि वह अभिभावकों की सहूलियत को ध्यान में रखते हुए इस मामले में हस्तक्षेप करें।

 

 

Author

  • Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

By Abhishek Raj

Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

Leave a Reply

Your email address will not be published.