दिल्ली सरकार द्वारा अब दिल्ली के अस्पतालों का पुनर्विकास होगा। अगले वित्तीय वर्ष के बजट में 1900 करोड़ रुपये की लागत से दिल्ली के 4 नए निर्माणाधीन अस्पतालों और 15 पुराने सरकारी अस्पतालों का पुनर्विकास किया जाएगा। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने इसका बजट पेश किया है। उन्होंने बताया कि इन अस्पतालों के बनने और पुनर्विकास से 16 हजार बेड बढ़ेंगे, इससे लोगों को इलाज कराने में मदद मिलेगी। इनमें से बुराड़ी में 768 बेड के अस्पताल का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है।

कोरोना काल में यह अस्पताल 450 बेड की क्षमता के साथ काम कर चुका है। 25 जुलाई 2020 में आंबेडकर नगर अस्पताल भी 200 बेड के साथ काम शुरू कर चुका है। कोरोना मरीजों के इलाज के लिए द्वारका स्थित इंदिरा गांधी अस्पताल में व्यवस्था की गई है वहीं अगले साल 1241 बेड की क्षमता के साथ यह अस्पताल काम शुरू कर देगा।

इन 15 पुराने सरकारी अस्पतालों का होगा पुनर्विकास

दिल्ली सरकार का सबसे बड़ा अस्पताल लोक नायक, गुरू तेग बहादुर (जीटीबी) अस्पताल, बाबू जगजीवन राम मेमोरियल अस्पताल, भगवान महावीर अस्पताल, गोविंद बल्लभ (जीबी) पंत अस्पताल, आंबेडकर अस्पताल और लाल बहादुर शास्त्री (एलबीएस) अस्पतालों का पुनर्विकास का कार्य किया जाएगा।

अस्पतालों के पुनर्विकास से बढ़ेंगे हजार बेड

इस मरीज जिन्हे कई कारणों से दिल्ली के सरकारी अस्पतालों में इलाज मिलना संभव नहीं हो पाता है दिल्ली आरोग्य कोष के तहत निजी अस्पतालों में मरीजों को निःशुल्क उपचार के साथ साथ सर्जरी, रेडियोलाजी एवं अन्य क्लीनिकल सेवाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं, इस योजना के लिए बजट में 50 करोड़ रुपये का प्रविधान किया गया है।

Author

  • Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

By Abhishek Raj

Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

Leave a Reply

Your email address will not be published.