यमुना नदी के प्रदूषण पर काबू पाने के तहत दिल्ली सरकार ने एक बडा कदम उठाया है। बता दें दिल्ली जल बोर्ड राष्ट्रीय राजधानी में अनधिकृत कॉलोनियों में सीवर लाइन बिछाने की एक परियोजना को मंजूरी दी है। यह 575 किलोमीटर लंबी सीवर लाइन होगी। बता दें यह सीवर लाइन शाहबाद, संगम विहार, जाफरपुर, गालिबपुर, सारंगपुर, गोयल विहार, किलोकरी, कंगनहेड़ी और दिचौल समूह की कॉलोनियों में बिछाई जाएंगी।दरअसल, यमुना की सफाई व सीवरेज प्रबंधन को बेहतर बनाने के लिए चार बड़ी परियोजनाओं को मंजूरी दी गई।राजधानी में 1799 अनधिकृत कॉलोनियां हैं। उनमें से 685 में पिछले साल अक्टूबर में सीवर लाइन चालू हो गई थीं। बाकी कालोनियों में दिसंबर 2024 तक कार्य पूरा होने की सम्भावना है।

इस परियोजना 428 करोड़ होगा खर्च

इसका मकसद यमुना में सीवरेज को गिरने से रोकना है। इन परियोजनाओं पर 428 करोड़ रुपये से अधिक खर्च होगा। इस एसटीपी का नवीनीकरण करण की क्षमता 15 एमजीडी की जाएगी। जो कि यमुना नदी को स्वच्छ बनाने में सहायक होगा। इस योजना पर 78 करोड़ खर्च आएगा। 78 करोड़ का यह प्रोजेक्ट एक साल में पूरा होगा।

Author

  • Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

By Abhishek Raj

Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

Leave a Reply

Your email address will not be published.