दिल्ली एनसीआर के लाखों लोगों को अब जाम से निजात मिलेगा। बता दें आज सुबह आठ बजे से आश्रम अंडरपास यातायात के लिए खोल दिया जाएगा। आज सुबह आठ बजे से रात 10 बजे तक आश्रम अंडरपास को ट्रायल के लिए खोल दिया गया। वहीं 10 बजे ये अंडरपास बंद होने के बाद 11 बजे से सुबह 6 बजे तक इसका बचा हुआ काम किया जाएगा। यानी कि अंडरपास एक तरह से ट्रायल के लिए खोला जा रहा है। इस ट्रायल के दौरान इस अंडरपास में ट्रैफिक मूवमेंट में जो कमियां नजर आएंगी उन्हें दूर करने के लिए कदम उठाए जाएंगे। मंगलवार को सिर्फ सरिता विहार से भोगल जाने वाला कैरिजवे खोला जाएगा।

भोगल से सरिता विहार जाने वाला कैरिजवे भी खोला जाएगा

बुधवार से भोगल से सरिता विहार जाने वाले कैरिजवे को भी खोल दिया जाएगा इस कैरिजवे को आज न खोल कर कल यानी बुधवार को इसलिए खोला जाएगा क्योंकि इस कैरिजवे पर अभी काफी सामान पड़ा हुआ है जिसे हटाने में एक दिन लगेगा। इस प्रोजेक्ट से जुड़े अधिकारी ने बताया कि इसका बचा हुआ काम 31 मार्च तक पूरा किया जाएगा। जिसके बाद इसका उद्धघाटन किया जाएगा। हालाकि दिल्ली सरकार की तरफ से अभी इसके उद्घाटन के लिए कोई तराइख नही निकाली गई है। इस मार्ग पर रोजाना करीब 3 लाख वाहनों का आवागमन होता है।

कर्व शेड डिजाइन में नहीं था

इस प्रोजेक्ट से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि कई कारणों की वजह से यह प्रोजेक्ट का काम में काफी देरी हुई है और कई बार अपनी समय सीमा पार कर गया। जिनमे से एक कारण इसके डिजाइन में बाद में कर्व शेड का जुड़ना भी है। अधिकारी ने बताया कि जब इस अंडरपास का काफी काम हो गया था तब भी यह कर्व शेड डिजाइन में नहीं था। इसी बीच एमबी रोड के पुलप्रहलादपुर अंडरपास में भरे पानी में डूबकर एक युवक की मौत हो गई।

अंडरपास में लगाए गए 35-35 हार्स पावर के चार पंप

अंडरपास का काफी काम हो जाने के बाद पीडब्ल्यूडी अफसरों ने अंडरपास पर कर्व शेड लगाने का कार्य शुरू किया और इसके डिजाइन में शेड को शामिल करके दिसंबर में इसका बजट अप्रूव किया। करीब आठ करोड़ रुपए के खर्च से पूरे अंडरपास पर यह शेड बनाया गया जो कि अंडरपास के मूल बजट से अतिरिक्त है। अफसरों ने बताया कि इस प्रोजेफ्ट का अधिकतर कार्य पहले ही हो गया था लेकिन शेड के कारण काम में भी करीब दो माह की देरी हुई है। शेड बन जाने से अंडरपास में पानी भरने की समस्या भी नहीं होगी। वहीं अंडरपास में 35-35 हार्स पावर के चार पंप भी लगाए गए हैं जिससे जलभराव से बचा जा सके। जो बारिश के दौरान अंडरपास में आए पानी को खींचकर बाहर कर देंगे।

अंडरपास का काम अभी अधूरा

अंडरपास के आस पास फैली निर्माण सामग्री, टूटी सड़कें, जगह-जगह लगे मिट्टी के ढेर और सड़क के किनारे पड़े बड़े-बड़े पाइप के कारण वह से आने जाने वाले लोगों को दिक्कतों का सामना करना पद रहा है वही इससे जाम की स्थिति भी बन रही है। अंडर पास के बाहर अभी नालियों की मरम्मत की जा रही है जिससे पैदल यात्रियों धूल मिट्टी का सामना करना पड़ रहा है। फुटपाथ पर पहले टाइल्स लगाई गई थी लेकिन स्ट्रीट लाइट के खम्बो तक तार बिछाने के लिए फिर से खुदाई की गई। बिजली के तारा बीच दिए गए लेकिन फुटपाथ की दुबारा मरम्मत नहीं करवाई गई। जिससे इस रास्ते पर मलबा मिट्टी का ढेर लगा हुआ है इस कारण वह से गुजरने वाले लोगो को धूल मिट्टी का सामना करना पड़ता है।

समय सीमा के मुताबिक नही पूरा हो सका कार्य

24 दिसंबर 2019 को आश्रम अंडरपास की आधारशिला रखी गई थी जो 750 मीटर लंबा है यह करीब 78 करोड़ रुपये की लागत से बनाया गया। इस अंडरपास का कार्य दिसंबर 2020 तक काम पूरा करना था लेकिन बार-बार काम रुकने से इसका कार्य समय सीमा के मुताबिक नही पूरा किया सका। 2020 से इसकी समय सीमा बढ़ाकर मार्च 2021, जून 2021 और फिर अगस्त 21 की गई। सितंबर में बिजली की केबल आ जाने के कारण और देरी हुई। इसी बीच ड्राइंग में खामी का मामला सामने आ गया। जिसके बाद अंडरपास की दीवार और यहां से गुजर रही अंडरग्राउंड मेट्रो की दीवार आए सामने आ गई। फिर दिसंबर 2019 में जब से अंडरपास का काम शुरू हुआ, दो बार कोरोना लाकडाउन लग चुका है जिसकी वजह से अंडरपास के कार्य में और देरी होती गई। पहली लहर में काम को पूरे तरीके से बंद कर दिया गया। दूसरी लहर में कार्य से जुड़े हुए समाग्री न मिलने से इसके काम में बाधा आई। इस दौरान कच्चा माल सप्लाई करने वाली एजेंसियों व विभाग के अधिकारी भी कोरोना संक्रमित हो गए थे।

 

 

 

 

 

Author

  • Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

By Abhishek Raj

Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

Leave a Reply

Your email address will not be published.