नई दिल्ली: दिल्ली सरकार प्रदेश के विकास के लिए हर संभव कार्य कर रही है।  मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को अपने आवास पर एक उच्च स्तरीय बैठक की जिसमे  मानूसन के दौरान यमुना में आने वाले अतिरिक्त पानी को स्टोर करने और उसे शुद्ध कर लोगों के घर तक पहुंचाने की योजना तैयार की गयी है जिससे दिल्ली के हर घर में 24 घण्टे साफ़ और शुद्ध पानी मिल सकेगा। इस बैठक में  पायलट प्रोजक्ट के आधार पर वजीराबाद जलाशय के ऊपरी छोर पर कैचमेंट वेटलैंड जलाशय बनाने और आफ रिवर मिनी जलाशय बनाने की दिशा में आगे बढ़ने के निर्देश पर सुझाव दिए गए ।

सीएम अरविन्द केजरीवाल ने कहा की अगर  हमारी यह रणनीति सफल रहती है तो दिल्ली में कई और ऐसे जलाशय बनाए जाएंगे, जिससे  मानसून के दौरान यमुना में आने वाले अतिरिक्त पानी को स्टोर कर उसका इस्तेमाल पीने के लिए किया जा सके।

इस योजना के अनुसार, पहला यमुना नदी के पश्चिमी तट पर स्थित वजीराबाद जलाशय के ऊपरी छोर पर पायलट आधार पर 459 एकड़ का कैचमेंट वेटलैंड जलाशय एवं  दूसरा, 20 एकड़ का आफ रिवर मिनी जलाशय बनाने पर विचार किया गया, जिसकी गहराई 10 मीटर तक होगी । इन दोनों जगहों पर  में मानसून का करीब 1735 एमजी तथा 223 एमजी पानी को स्टोर किया जा सकेगा।

गौरतलब है की सीएम ने इन दोनों प्रस्तावों पर विचार-विमर्श करके संबंधित अधिकारियों को आगे की कार्रवाई शुरू करने के निर्देश भी जारी कर दिए है, ताकि  जल्द से जल्द इस प्रोजेक्ट पर काम शुरू हो जाये।

 

Author

  • Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

By Abhishek Raj

Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

Leave a Reply

Your email address will not be published.