Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /home/express1/public_html/wp-content/plugins/og/includes/iworks/class-iworks-opengraph.php on line 331

राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना के पिक के बाद अब धीरे धीरे संक्रमण घटने लगा है। ऐसे में कोरोना के कारन लगे प्रतिबंधों को जारी रखना दिल्ली के व्यापारियों को कुछ हजम नही हो रहा है। दिल्ली के लगभग 96 प्रतिशत व्यापारियों ने  इन प्रतिबंधों को हटाने की अपील की है और साथ ही  इसे लेकर उपराज्यपाल और दिल्ली सरकार में खिंचतान पर निराशा भी व्यक्त की  है। कारोबारी संगठन कंफेडरेशन आफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के एक आनलाइन सर्वे में से ये बातें निकल कर सामने आई है। आपको बता दें की कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने यह कहा कि जब दिल्ली में संक्रमण दर 18 प्रतिशत से भी नीचे आ गई है, अस्पतालों में गंभीर मामलों में भी काफी हद तक  कमी  नजर आ रही है साथ ही पिछले वर्ष की तरह इस साल अस्पतालों में बेड भी ज्यादा नहीं भरे हैं, तो जाहिर है की  कोरोना प्रतिबंधों में रियायत देना जरुरी है  जिससे दिल्ली का व्यापार और आर्थिक चक्र भी सही से चलता रहे। गैरतलब है की इस संबंध में कैट ने दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल को पत्र भेजकर दिल्ली में कोविड प्रतिबंधों में रियायत देने की मांग भी की है।

दिल्ली में आड इवेन व्यवस्था पूरी तरह से फेल

कैट ने उपराज्यपाल को भेजे पत्र में यह भी कहा है की सम-विषम (इवेन-आड) व्यवस्था दिल्ली में न केवल फेल  हुई है बल्कि इससे उपभोक्ताओं को भी काफी परेशानी झेलनी पड़ी  है और दिल्ली के व्यापार का बेडा गर्क करने में भी इसने कोई कसर नहीं छोड़ी  है। इसके मद्देनजर इस ओड इवन सिस्टम  तथा वीकली कर्फ्यू को समाप्त कर कोरोना नियमों के कड़ाई से पालन पर अधिक जोर दिया जाना चाहिए और सभी जरुरी गाइडलाइन के साथ बाजार को खोल देना चाहिए।

सुझाया सरकार को यह समाधान 

आपकी जानकरी के लिए यह बता दें की कैट ने जारी पत्र में यह भी सुझाव दिया है कि बाजारों के कार्य का समय सुबह 10 बजे से शाम पांच बजे कर दिया जाए वहीं होटल एवं रेस्त्रां को 50 प्रतिशत क्षमता के साथ खोलने की अनुमति प्रदान कर दी जाए जिस प्रकार निजी कार्यालयों को दी गई है। दिल्ली में शादियों की जरूरतों को महसूस करते हुए 20 व्यक्तियों के स्थान पर कम से कम 100 व्यक्तियों के शामिल होने की अनुमति दी जाए क्योंकि शादियों में दोनों पक्षों के मिलकर कम से कम 100 व्यक्ति तो परिवार के सदस्य व करीबी रिश्तेदार ही हो जाते हैं, ऐसे में 20 सदस्यों के साथ शादी थोड़ी मुश्किल है।

नियमों का भी हो कड़ाई से पालन 

हालाँकि कैट ने यह भी बताया कि सर्वे में जहाँ लगभग 96 प्रतिशत व्यापारियों ने पूरे सप्ताह बाजार खोलने का आग्रह किया है वहीं दूसरी तरफ 97 प्रतिशत व्यापारियों ने कोरोना सुरक्षा नियमों के कड़ाई से पालन करने पर भी जोर दिया है। इसी तरह 86 प्रतिशत व्यापारी ऐसा मानते हैं कि पिछले 20 दिनों में कोविड के चलते उनका व्यापार लगभग 60 प्रतिशत से अधिक कम हुआ है। जबकि 88 प्रतिशत लोगों ने शादियों में 100 व्यक्तियों के शामिल होने के विषय पर सहमति व्यक्त की है। वहीं 72 प्रतिशत ने मामले के राजनीतिककरण पर नाराजगी जताई है।

Author

  • Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

By Abhishek Raj

Abhishek Raj Is Journalist & Edtior Of Expresskhabar.in , Abhishek Raj writing news, views, reviews and interviews with expresskhabar.in.

Leave a Reply

Your email address will not be published.